BJP में सतीश पूनिया का बढ़ा कद, जयपुर की शहरी सरकार बनाने की जिम्मेदारी

जयपुर।

जयपुर के मेयर का कल चुनाव होना है। इसको लेकर भाजपा-कांग्रेस में जबरदस्त रस्साकस्सी का दौर चल रहा है। भाजपा ने अपने सभी पार्षदों को अजमेर रोड स्थित एक रिजॉर्ट में ठहरा दिया है, जहां से कल सीधे नगर निगम लाया जाएगा।

90 सदस्यों के जयपुर नगर निगम में बीजेपी के 63 पार्षद हैं, जबकि कांग्रेस के पास केवल 18 पार्षद हैं, जबकि 9 निर्दलीय पार्षद हैं, इसके बावजूद भाजपा सकते में है।

भाजपा की ओर से मेयर के लिए 16 पार्षदों ने दावेदारी जताई है। पार्टी को डर है कि उनके पार्षद कहीं बगावत कर कांग्रेस के प्रत्याशी को वोट नहीं कर दें।

आपको बता दें कि चार साल के दौरान नगर निगम के महापौर और तीसरे बोर्ड का गठन होगा। नगर निगम के 25 साल के इतिहास में यह पहला मौका है जब एक कार्यकाल में तीन बोर्ड बन रहे हैं।

आपको बता दें कि चार साल पहले हुए निगम चुनाव के बाद निर्मल नाहटा को मेयर बनाया गया था। उसके बाद विभिन्न आरोपों के बाद दिसम्बर 2016 को पार्षद और बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता अशोक लाहोटी को मेयर चुना गया था।

7 दिसम्बर 2018 को सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव में सांगानेर विधानसभा क्षेत्र से विधायक का चुनाव लड़ने और जीतने के बाद लाहोटी ने इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद कार्यवाहक मेयर के तौर पर उप महापौर मनोज भारद्वाज को मेयर बनाया गया था।

कल जयपुर की सरकार का मुखिया का चुनाव होना है, और राज्य में भाजपा की सरकार नहीं है। ऐसे में मेयर पद के चुनाव का जिम्मा पार्टी के वरिष्ठ नेता और बीजेपी प्रवक्ता सतीश पूनिया को सौंपी गई है।

यह भी पढ़ें :  CM गहलोत ने स्मृति चिन्ह बेचकर जुटाए 1.36 करोड़, दानदाताओं से 5 फ्लैट भी मिले

सतीश पूनिया न केवल पार्टी प्रवक्ता है, बल्कि आमेर विधानसभा क्षेत्र से विधायक भी हैं। उनके पास विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव सह संयोजक का अति महत्वपूर्ण जिम्मा था। जिसको उन्होंने बड़ी सफलता से निभाया था।

शायद पार्टी ने उनको इसीलिए शहरी सरकार बनाने की जिम्मेदारी सौंपी है। अब यदि सतीश पूनिया इस जिम्मेदारी को सफलतापूर्वक संपन्न करने में कामयाब होते हैं, तो निश्चित तौर पार्टी में उनका कद बढ़ जाएगा।

पूनिया पार्टी के प्रवक्ता से पहले प्रदेश महामंत्री भी रह चुके हैं। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष को लेकर भी पार्टी कार्यकर्ताओं में सतीश पूनिया के नाम की चर्चा होती रहती है।

उल्लेखनीय है कि मेयर के लिए डिप्टी मेयर मनोज भारद्वाज, पूर्व मेयर व पार्षद निर्मला नाहटा, अनिल शर्मा, विष्णु शर्मा, सत्यनारायण धामणी, मान पंडित, राखी राठौड़, कुसुम यादव, प्रकाश गुप्ता, भगवत सिंह देवल, अशोक गर्ग, मुकेश लखयानी, नवरत्न नरानिया, दिनेश अमन, भंवर सिंह, गोपाल कृष्ण शर्मा और निर्दलीय पार्षद सुशील शर्मा भी खुद को मेयर पद का दावेदार बता रहे हैं।