पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष राजपाल शर्मा ने जयपुर लोकसभा से जताई दावेदारी

जयपुर।

राजस्थान विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष राजपाल शर्मा ने जयपुर शहर से लोकसभा चुनाव के लिए अपनी दावेदारी पेश की है।

जयपुर के प्रभारी मंत्री शांति धारीवाल के समक्ष राजपाल शर्मा ने अपनी दावेदारी जताते हुई योग्य उम्मीदवार बताया है। कांग्रेस पार्टी के द्वारा प्रदेश के सभी जिलों से लोकसभा चुनाव के लिए संभावित उम्मीदवार बताने को 25 जनवरी तक का वक्त मुकर्रर किया है।

img 20190118 wa00092456835881284582951

उल्लेखनीय है कि राजपाल शर्मा 2004-2005 के दौरान राजस्थान विश्वविद्यालय छात्रसंघ के अध्यक्ष रह चुके हैं। उससे पहले राजपाल शर्मा राजस्थान विश्वविद्यालय में करीब 10 साल से छात्रसंघ की राजनीति करते रहे।

राजपाल शर्मा के बड़े भाई और राजस्थान विश्वविद्यालय के ही पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष राजकुमार शर्मा झुंझुनू जिले के नवलगढ़ तहसील से लगातार तीसरी बार विधायक बनकर राज्य की सबसे बड़ी पंचायत में पहुंचे हैं।

img 20190118 wa00113241930758357993956

आपको बता दें कि राजपाल शर्मा छात्रसंघ अध्यक्ष बनने के बाद से ही लगातार कांग्रेस पार्टी की में सक्रिय रहे हैं, जिसके चलते उनकी दावेदारी और भी मजबूत हो जाती है। शर्मा सक्रिय रूप से कांग्रेस पार्टी में काम करते हुए लोकसभा उम्मीदवार के रूप में अपनी दावेदारी जता रहे हैं।

राजपाल शर्मा के अलावा वर्तमान विधायक, विधानसभा में मुख्य सचेतक और पूर्व लोकसभा सांसद महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी भी जयपुर शहर से लोकसभा के टिकट के लिए जुट गए हैं।

img 20190118 wa00104429079496886655024

इन दोनों में द्वारों के अलावा लंबे समय से कांग्रेस पार्टी में टिकट के लिए दावेदारी जता रहे पंडित सुरेश मिश्रा भी लोकसभा चुनाव को लेकर काफी सक्रिय है। सुरेश मिश्रा इससे पहले बीते विधानसभा चुनाव में सांगानेर से विधायक का टिकट मांग रहे थे। वह साल 2008 से लेकर 2013 तक चली विधानसभा में भी सांगानेर क्षेत्र से प्रत्याशी रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान सरकार का फैसला: फीस जमा नहीं होने पर स्कूल नहीं काटें किसी विद्यार्थी का नाम

img 20190118 wa00126432189887355702109

हालांकि, इन तीनों उम्मीदवारों के अलावा और भी कई कांग्रेसी नेता टिकट की दौड़ में शामिल हैं, लेकिन राजपाल शर्मा की सक्रियता और पार्टी में उनकी मजबूती से पक्ष रखने के चलते दावेदारी सबसे मजबूत नजर आ रही है।