राठौड़ ने कहा हनुमान बेनीवाल को सदन से उठाकर बाहर फेंक दो

nationaldunia

जयपुर।

राज्य विधानसभा के भीतर गुरुवार को राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल और बीजेपी के नेता राजेंद्र राठौड़ के बीच तीखी नोकझोंक हुई।

राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान मूंग खरीद को लेकर हनुमान बेनीवाल ने मांग उठाई जिस को लेकर राजेंद्र राठौड़ ने इसको विधानसभा की अवमानना और गरिमा के खिलाफ बताते हुए, उनको सदन से बाहर निकालने की मांग कर डाली।

इस बात को लेकर हनुमान बेनीवाल और राजेंद्र राठौड़ के बीच तीखी तकरार हुई और दोनों ने एक दूसरे को खूब भला बुरा कहा। एक तरफ राज्यपाल का अभिभाषण चल रहा था तो दूसरी तरफ यह दोनों विधायक किसानों की मांग और सदन की गरिमा को लेकर आपस में झगड़ रहे थे।

हनुमान बेनीवाल ने कहा कि राज्य का किसान उनके खरीद को लेकर सड़क पर बैठा है और राज्य सरकार नींद में सो रही है। यही बात राजेंद्र राठौड़ को नागवार गुजरी और उन्होंने बेनीवाल को सदन से बाहर फेंकने की मांग कर डाली।

हनुमान बेनीवाल के साथ माकपा विधायक बलवान पूनिया ने भी सरकार पर मूंग की खरीद नहीं करने का आरोप लगाया। इस दौरान दोनों वेल में आ गए।

आपको बता दें कि माकपा के दो विधायक पांच साल बाद जीतकर सदन पहुंचे हैं। जबकि आरएलपी के हनुमान बेनीवाल समेत तीन विधायक चुनकर आए हैं।

सदन में हंगामे के बीच मूंग खरीद पर बोलते हुए बेनीवाल ने कहा कि टोकन देने की व्यवस्था फिर से शुरू होनी चाहिए, ताकि वंचित रह गए किसानों को एमएसपी पर मूंग बेचने का अवसर मिल सके। उन्होंने इस मामले में पूर्व सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगाए, जिससे राठौड़ और भड़क गए।

यह भी पढ़ें :  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2.0: दुनिया के सबसे शक्तिशाली नेता बनकर उभरे: डॉ. सतीश पूनियां

इस दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कहा कि अपने जीवनकाल में राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान इस तरह की स्थिति नहीं देखी। सत्तापक्ष ही नहीं विपक्ष ने भी बेनीवाल को सदन से बाहर करने की मांग कर डाली।

इधर, माकपा और आएलपी समेत कई निर्दलीय विधायकों ने किसानों की मांग को लेकर सरकार को घेरने का प्रयास किया है। सदन में किसानों के मुद्दे के आगे भी जारी रहने की संभावना जताई जा रही है।