संस्कृत में इन्होंने ली शपथ, राजस्थानी भाषा में शपथ पर टकराव

Nationaldunia

जयपुर।
राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी की विधायक इंदिरा देवी के अलावा बगरू से कांग्रेस एमएलए गंगादेवी के भी अनपढ़ होने के कारण अध्यक्ष गुलाबचंद कटारिया ने ही शपथ दिलवाई।

गंगादेवी 2008 से 2013 तक भी कांग्रेस की विधायक रह चुकी हैं, जबकि आरएलपी की विधायक इंदिरा देवी पहली बार निर्वाचित होकर सदन पहुंचीं हैं।

विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत ने राजस्थानी भाषा में शपथ लेने की अनुमति मांगी, जिसपर अध्यक्ष कटारिया ने अनुमति नहीं दी। इसके बाद गिरधारी लाल ने भी राजस्थानी भाषा में शपथ लेने की जिद पकड़ ली।

इसपर अध्यक्ष कटारिया कहा कि आप हिंदी में ही लें, लेकिन गिराधारी लाल ने छत्तीसगढ़ का हवाला देते हुए राजस्थानी भाषा में ही शपथ लेने की बात कही।

इसपर अन्य कई सदस्य भी खड़े हो गए। इस दौरान किसी ने कहा कि खबरों में छपने के लिए यह सब कर रहे हैं। गिरधारी लाल ने कहा कि खबरें से सड़क पर छपती है, सदन पर नहीं।

बाद में कटारिया के समझाने और राजस्थानी भाषा के 9वीं अनुसूचि में शामिल नहीं होने के कारण हिंदी भाषा में ही शपथ लेने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें :  Jaipur ring road: सबसे बड़ी परियोजना 9 साल बाद खुलेगी, 810 करोड़ की लागत से हुआ है निर्माण