ओलम्पिक क्वालीफाई करने वाली भावना ने की सांसद बेनीवाल से मुलाकात

Delhi / Jaipur / Nagaur

शुक्रवार को दिल्ली में राजसमन्द जिले की रेलमगरा तहसील के काबरा गांव निवासी भावना जाट ने नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल से मुलाकात की।

भावना ने हाल ही में नेशनल चैम्पियन की 20 किलोमीटर रेस वर्ग में नया रिकॉर्ड बनाते हुए टोक्यो ओलम्पिक 2020 के लिए क्वालीफाई किया था।

इस अवसर पर रालोपा संयोजक बेनीवाल ने भावना को बधाई देते हुए कहा कि उनके नए कीर्तिमान से प्रदेश व जाट समाज का नाम रोशन हुआ।

उन्होंने बधाई देते हुए भावना को हर सम्भव मदद का आश्वासन दिया। इस अवसर पर राजस्थान हाऊस दिल्ली में भावना के भाई प्रकाश व परिजनों भी मौजूद रहे।


इस अवसर पर राजस्थान विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी भी मौजूद रहे। सांसद ने सोशियल मीडिया पर कोरोना वायरस से बचने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी एडवाइजरी को साझा किया वही इटली के कोरोना प्रभावीत पर्यटकों को बिना कोई आवश्यक इंतजाम किये व संसाधनों की उपलब्धता करवाये बिना जयपुर शहर की प्रताप नगर व सांगानेर जैसी घनी आबादी में स्थापित आरयूएच मेडिकल कॉलेज अस्पताल में शिफ्ट करने पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की।

उन्होंने कहा राज्य सरकार यह कदम अच्छा नही है क्योंकि सरकार ने न कोई संसाधन वहां उपलब्ध करवाए न ही इसको लेकर सुव्यस्थित आइसोलेशन वार्ड वहां था। इसलिए वहां के डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ भी इस बात को लेकर आंदोलित है, क्योंकि इस वायरस से निपटने का इस हॉस्पिटल में कोई भी प्रबंध नहीं है।

फिर भी इन्होंने घनी आबादी में लापरवाही पूर्वक यहां मरीज भेजे जा रहे हैं। दूसरी तरफ चाइना में आबादी से दूर 10 दिनों में हजारों की क्षमता वाला अस्पताल बना दिया गया, जबकि जयपुर में स्वाइन फ्लू के समय से ही 50 बेड का अलग हॉस्पिटल शहर से बाहर कहीं दूर बनाने का प्रस्ताव आज महीनों से लंबित है।

यह भी पढ़ें :  नागौर में हनुमान बेनीवाल का अपहरण, कांग्रेसियों पर आरोप

सांसद ने कहा इटली वाली मेम को खुश करने के लिए व अन्य मरीजो व चिकित्सको की जान को खतरे में डाल कर मुख्यमंत्री ने इटली के मरीजो को वहां शिफ्ट किया, जबकि बेहतर यह होता जहां पहले से आइसोलेशन वार्ड तैयार है।

सांसद ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि शहर से दूर जहां आबादी नहीं, वहां कोई भवन टेक ओवर करके उसमें आइसोलेशन वार्ड बनाया जाए और तत्काल 100 बेड से अधिक क्षमता का अस्पताल आबादी से बाहर बनाना चाहिए।

क्योंकि जब चाइना हजारों बैड क्षमता का अस्पताल 10 दिनों में बना सकता है तो राज्य सरकार की इच्छा शक्ति होने पर 100 बेड का अस्पताल 10 दिनों में बनाना कोई बड़ी बात नही है।