आखिर क्यों आईएएस टीना डाबी का मामला विधानसभा में गूंजा?


जयपुर।

राजस्थान विधानसभा सत्र के दौरान आज भीलवाड़ा उपखंड अधिकारी टीना डाबी (IAS) द्वारा केन्द्र सरकार के खिलाफ सीएए बिल को लेकर सैशल मीडिया पर की गई टिप्पणी का मामला गूंजा।

भाजपा विधायक और विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड ने शुक्रवार को विधानसभा मे यह मामला उठाते हुए कहा कि केन्द्र सरकार ने नागरिकता कानून बिल (CAA) पास किया है। राजेंद्र राठौड़ विधानसभा में जिला प्रशासन की मांग संख्या 4 पर बोल रहे थे।

img 20200228 wa01035210631697166739989
टीना डाबी के उस कथित फेक अकाउंट से यह पोस्ट की गई थी।

उस कानून का भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी, जो भीलवाड़ा मे लगी हुई है, वही IAS टीना डाबी अपने सोशल मीडिया पर इसका विरोध करती हैं और सोनिया गांधी को बधाई देती हैं। राठौड ने कहा की ऐसा राजनितिकरण चलता रहा तो प्रदेश में सुशासन कैसे होगा?

img 20200228 wa01045106904557053651015
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भी इसी अकाउंट से बधाई दी गई थी।

क्या है मामला
उपखंड अधिकारी भीलवाड़ा टीना डाबी (आईएएस) ने 17 दिसंबर 2019 को अपने फेसबुक पर CAA का विरोध करने वाली एक पोस्ट लिखी थी, तथा सोनिया गांधी के जन्मदिन पर उन्हें फेसबुक पर बधाई दी थी।

17 दिसम्बर 2019 की इस पोस्ट को लेकर जब खबरें चली तो टीना डाबी ने उसी दिन मीडिया को बताया की वो उनका फेक एकाउंट है और उन्होंने इस सम्बन्ध मे साइबर क्राइम के तहत कोतवाली थाने में मामला भी दर्ज कराया था।

भाजपा ने दिया था ज्ञापन
आईएएस डाबी के इस मामले को लेकर भाजपा जिलाध्यक्ष लादू लाल तेली के नेतृत्व में भाजपा ने जिला कलेक्टर को केन्द्रीय गृहमंत्री के नाम भी ज्ञापन दिया था।

तेली ने उस समय मीडिया को बताया था कि अगर टीना डाबी का वह फेक एंकाउट है, तो सरकारी ऑफिस की फोटो भी उस अकाउंट पर कैसे पोस्ट हुई और अभी तक पुलिस ने क्या जांच की है?

यह भी पढ़ें :  राजस्थान की फ्री दवा योजना से अगर सिर दर्द भी मिट जाए तो मैं विधायक पद से इस्तीफा दे दूंगा- रामप्रताप