सतीश पूनिया के प्रयास से दिल्ली दंगों में जान गंवाने वाले हेड कांस्टेबल रतनलाल को मिलेगा शहीद का दर्जा

Jaipur news

दिल्ली दंगों के दौरान ड्यूटी करते हुए शहीद हुए सीकर के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग पूरी होती हुई नजर आ रही है।

भारतीय जनता पार्टी राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के द्वारा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी से फोन पर बात करके उसके नाम की गई थी। इसके साथ ही मंगलवार को अजमेर में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के दौरान बनाने की मांग की थी।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किसान रैली के द्वारा दिवंगत हेड कांस्टेबल रतनलाल को शहीद का दर्जा दिए जाने पर सहमति जताई गई है और इसके साथ ही उनके अंतिम संस्कार के लिए सीकर के सांसद सुमेधानंद सरस्वती और अन्य कुछ नेताओं को भेजा गया है।

उल्लेखनीय है कि हेड कांस्टेबल रतन लाल की दंगा नियंत्रण करते हुए गोली लगने से मौत हो गई थी। आज उनकी पार्टी ने सीकर पहुंची, लेकिन ग्रामीणों ने उन को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग पूरी नहीं होने तक अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था।

विधानसभा में भी फतेहपुर के स्थानीय विधायक हाकम अली खान ने शहीद रतन लाल को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग उठाई थी। भाजपा के अन्य सदस्यों ने भी रतनलाल को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग की थी।

यह भी पढ़ें :  दिल्ली के बजाय प्रदेश के किसानों की ओर ध्यान दें गहलोत: सतीश पूनियां