विधानसभा: गिरते-गिरते बची अशोक गहलोत सरकार! भागते हुए सदन में आए मंत्री

Jaipur news

राजस्थान विधानसभा में आज सरकार पर संवैधानिक संकट खड़ा होते-होते बचा। जब वित्त विधेयक पारित किए जाने के समय सत्तापक्ष के पास पर्याप्त संख्या में सदस्य नहीं होने के कारण विपक्ष ने विधेयक को काफी देर तक पारित नहीं होने दिया।

एक बारगी तो विपक्ष ने अल्पमत की सरकार को बर्खास्त करने की मांग कर डाली। करीब 10 मिनट तक सत्तापक्ष और विपक्ष की ओर से सदन में हंगामा किया गया।

सरकार बचाव की मुद्रा में उतर आई। सदन में भागमभाग मच गई। सत्तापक्ष के विधायक दौड़ते-भागते सदन में पहुंचे। गोविंद सिंह डोटासरा, भंवर सिंह भाटी, अशोक चांदना, प्रताप सिंह खाचरियावास समेत कई मंत्री भागते-भागते सदन में पहुंचकर सरकार की साख बचाने में जुट गए।

हालात यह हो गए कि सभापति के पद पर बैठे राजेन्द्र पारीक को विधेयक पास करवाने के लिए 4 बार बार आवाज लगानी पड़ी, तो दूसरी तरफ आक्रामक हुए विपक्ष ओर से नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने वोटिंग करवाने की मांग कर डाली।

काफी समय तक सत्तापक्ष के सदस्य दौड़कर सदन में आते रहे। उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने सदन के बाहर से दौड़ कराते हुए सत्ता पक्ष के सदस्यों को रोकने के लिए सदन के दरवाजे बंद करने की मांग कर डाली।

निर्दलीय विधायक राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के विधायक चुपचाप बैठे रहे। सत्ता पक्ष की तरफ से दौड़कर भागकर आते हुए पार्टी के सदस्य और मंत्रियों ने सरकार के पक्ष में आवाज लगानी शुरू कर दी।

इस बीच भाजपा की तरफ से कई विधायकों ने अल्पमत की सरकार होने के कारण सरकार को बर्खास्त करने की मांग की उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने गिनती करवाने की मांग की, तो दूसरी तरफ संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने अपनी संख्या बल का हवाला देते हुए मुट्ठीभर सदस्य बताते हुए वोटिंग कराने की मांग को खारिज कर दिया।

यह भी पढ़ें :  3 दिन में तीसरे किसान ने किया सुसाइड, अब जोधपुर में ट्रेन के आगे कूदा किसान

सत्ता पक्ष और विपक्ष की तरफ से सदन में भारी हंगामे के बीच नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के आह्वान पर विपक्ष ने सदन से बहिर्गमन किया।

संवैधानिक परंपराओं के मुताबिक ऐसे समय में अध्यक्ष की कुर्सी पर आसीन सभापति यह खुद अध्यक्ष के विवेक पर निर्भर करता है कि यदि सदन में वोटिंग करवाई जाए और सरकार अल्पमत में हो तो सरकार के गिरने की संभावना पैदा हो जाती है।