भाजपा MLA लाहोटी द्वारा गहलोत के कसीदे गढ़ने वाले बयान से पार्टी में बवाल, महामंत्री करेंगे तहकीकात

Jaipur news

भारतीय जनता पार्टी की सांगानेर से विधायक और प्रदेश प्रवक्ता अशोक लाहोटी के द्वारा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की शान में कसीदे गढ़ने को लेकर पार्टी में बवाल खड़ा हो गया।

पार्टी ने इसको अनुशासनहीनता की श्रेणी में लाते हुए भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया ने लाहोटी के पूरे वीडियो बयान की पड़ताल करने और अशोक लाहोटी से उनका पक्ष जानने की बात कही गई है।

दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी में विधायक लाहोटी के द्वारा दिए गए इस बयान को लेकर खुशी की लहर है। पार्टी के संगठन महासचिव महेश शर्मा का कहना है कि विधायक के मन में जो आया वही बोले। क्योंकि राजस्थान की सरकार पारदर्शी, ईमानदार और सही कार्य कर रही है।

भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा है कि इस बात की जानकारी की जाएगी, कि अशोक लाहोटी ने इस संदर्भ में यह बात कही है और तब उनके मन में क्या भाव चल रहे थे?

अशोक लाहोटी के भाषण का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद सांगानेर में उनके खिलाफ भाजपा के कार्यकर्ताओं में गहरा रोष व्यक्त किया है, और लोगों ने सोशल मीडिया पर अशोक लाहोटी के बयान की कड़ी निंदा की है।

दूसरी तरफ लाहोटी के समर्थक उनके समर्थन में उतर गए हैं। सोशल मीडिया पर भाजपा कार्यकर्ता को लाहोटी के निजी समर्थक जवाब दे रहे हैं, लेकिन जवाब देते बन नहीं रहा है।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को मानसरोवर में हाउसिंग बोर्ड के द्वारा आयोजित किए गए कार्यक्रम में सांगानेर विधायक अशोक लाहोटी ने पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के चरण छुए थे। उसके बाद में उनकी शान में 3 मिनट तक कसीदे गढ़े, यही विवाद का कारण बन गए।

यह भी पढ़ें :  RLP-BJP के बीच कुछ खट्टा, कुछ मीठा वाले संबंधों के ये हैं कारण

अशोक लाहोटी ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को जीरो टॉलरेंस वाला मुख्यमंत्री बताते हुए कहा था, कि जब वे राजस्थान से बाहर होते हैं और मुख्यमंत्री के बाहर बारे में ऐसा कहा जाता है तो उनका सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है।

यहां पर यह भी जाना जरूरी है कि सांगानेर के विधायक अशोक लाहोटी ने विपक्ष में होने के बावजूद भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए जो शब्द गए हैं, क्या वह वाकई में उनके लायक हैं या फिर किसी निजी लालच के चलते अशोक लाहोटी ने गहलोत की इस तरह से सार्वजनिक मंच से बढ़ाई की है।