यूथ कांग्रेस का पहले दिन 8% और दूसरे दिन 60% मतदान संदेह के घेरे में है

Jaipur news

राजस्थान प्रदेश युवा कांग्रेस के चुनाव के लिए 2 दिन की मतदान की अवधि समाप्त हो गई है। इसी के साथ 2 दिन में कुल मिलाकर 113000 के करीब मतदाताओं ने वोट डाले।

जबकि कुल मतदाताओं की संख्या करीब चार लाख 50 हजार बताई जा रही है। इस हिसाब से 22-23 फीसदी लोगों ने मतदान में हिस्सा लिया है।

मतदान के पहले दिन जहां मात्र 17000 वोट डाले गए थे, वहीं दूसरे दिन यह आंकड़ा 96000 के पार कर गया। पहले दिन जहां 1 वोट डालने में 10 से 15 मिनट लग रहे थे और ऐसा होने के चलते युवक कांग्रेस की वोटिंग की वेबसाइट 2:00 ही ध्वस्त हो गई थी।

वहीं दूसरे दिन वेबसाइट को अपडेट किया गया। पहले दिन जिन 106 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान हुआ था और दूसरे दिन सिर्फ 94 विधानसभा क्षेत्रों के मतदाताओं को वोट डालना था।

लेकिन पहले दिन वेबसाइट दस्त होने के कारण पहले दिन के 106 विधानसभा क्षेत्रों के साथ दूसरे दिन के 94 विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं ने वोट डाला।

ऐसे में दूसरे दिन सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों से फिर वोटिंग हुई और यही कारण रहा कि पहले दिन के मुकाबले दूसरे दिन का मतदान प्रतिशत 6 गुना ज्यादा हो गया और शाम 4:00 बजे तक मतदान समाप्त हुआ तब तक 113000 से ज्यादा वोट डाले जा चुके थे।

हालांकि, दूसरे दिन मतदान के दौरान जब शाम को आंकड़ा बताया गया तो चुनाव लड़ने वाले कई उम्मीदवारों की ओर से मतदान अचानक इतना बढ़ना संदेह की दृष्टि से देखा गया। हालांकि खुलकर तो किसी उम्मीदवार ने नहीं बोला, लेकिन दबी जुबान में इनका कहना था कि हो सकता है कि दूसरे दिन कहीं ना कहीं वेबसाइट की जगह किसी एक पक्ष को लाभ देने का प्रयास हुआ हो।

यह भी पढ़ें :  सांगानेर में मस्जिदों में पांच वक्त नमाज, मंदिर बन्द क्यों हैं? पुलिस कमिश्नर नहीं दे पा रहे जवाब!

वैसे चुनाव परिणाम आने के बाद यह आरोप प्रत्यारोप ज्यादा बढ़ सकते हैं, जैसा कि पहले युवक कांग्रेस के दो चुनाव में हो चुका है।

इन चुनाव के परिणाम 27 और 28 फरवरी को ऑनलाइन ही बताए जाएंगे। वैसे किस जिले में कितना मतदान हुआ है, इस बारे में स्पष्ट नहीं बताया गया है? लेकिन राजधानी जयपुर के बारे में बताया जा रहा है कि यहां करीब 60000 मतदाताओं ने वोट डाले हैं।

जहां तक चुनाव प्रक्रिया की बात है तो इस बार सदस्यता से लेकर परिणाम तक सब कुछ डिजिटल और ऑनलाइन ही रहने वाला है। सदस्यता भी जहां ऑनलाइन हुई, वहीं पहली बार मतदान में डिजिटल तरीके से ठीक हुआ और ऐप के जरिए मतदाताओं को ओटीपी मिली और उसके बाद उन्होंने अपना वोट डाला ऑनलाइन प्रक्रिया और डिजिटल सिस्टम के चलते ही यह कारण है रहा है कि मतदान 22-23% हो गया है।

इन चुनाव में विधायक मुकेश भाकर, राज्य के मंत्री साले मोहम्मद के भाई अमरदीन, सुमित भगासरा, राकेश मीणा, संजीता सिहाग, रोमा जैन 9 उम्मीदवार प्रदेश अध्यक्ष के लिए भाग्य आजमा रहे हैं, वहीं 69 लोग प्रदेश महासचिव के लिए अपना भाग्य आजमा रहे हैं। जयपुर शहर में 8 लोगों के बीच अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला है।