नागौर मामले पर हनुमान की RLP ही डटी मैदान में, भाजपा ने निभाई महज रस्म अदायगी

hanuman beniwal narayan beniwal pukhraj garg
hanuman beniwal narayan beniwal pukhraj garg

जयपुर।
नागौर के खींवसर विधानसभा क्षेत्र में एक दोपहिया वाहन कंपनी के शोरुम पर दो युवकों को पीटने और जलील करने के मामले में केवल राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ही मैदान में डटी है। भाजपा ने इस मामले में विपक्षी पार्टी होने के नाते केवल रस्मअदायगी भर करने के बाद चुप हो गई।

इस मामले में रालोपा के तीनों सांसद आज एक तरफ जहां बजट भाषण का बहिष्कार करने को मजबूर हो गये, तो दूसरी तरफ सदन के बाहर धरने पर बैठ गए। शाम को 5:30 बजे जब सांसद हनुमान बेनीवाल वहां पहुंचे, तब तक वहीं पर मौजूद हैं।

सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरु हुई, तो रालोपा के विधायकों ने वेल में आकर नारेबाजी शुुरु कर दी। नारायण बेनीवाल, इंदिरा बावरी और पुखराज गर्ग ने पोस्टर लेकर नारे लगाए, जिसपर अध्यक्ष सीपी जोशी ने अनुमति नहीं दी।

इससे नाराज होकर तीनों विधायक सदन से बाहर चले गए। इसके बाद तीनों सदन के बाद मुख्यद्वारा पर बैठ गए। उन्होंने साफतौर पर कहा कि जब तक युवकों की मारपीट और जलील करने के मामले में सख्त एक्शन का विश्वास नहीं दिलाया जाएगा, तब तक वहीं बैठे रहेंगे।

इधर, भाजपा ने भी कुछ मात्रा में विरोध जताया, तथा सोशल मीडिया पर ऐतराज भी जताया, किंतु मैदान में नहीं डट पाए। भाजपा के नेताओं ने केवल बयान देने या बयान जारी करने के अलावा कोई गतिविधि नहीं की।

रालोपा के तीनों विधायकों समेत पूरी पार्टी ने आंदोलन का ऐलान कर दिया। तब आनन फानन में सरकार ने एक्शन लिया और शाम तक 7 जनों को गिरफ्तार किया है। मामला तूल पकड़ने के बाद कांग्रेस सरकार सकते में आई है।

यह भी पढ़ें :  25 वार्ड एससी-एसटी के लिए आरक्षित, देखिये कौनसे वार्ड हैं