Jaipur news

परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास परोक्ष रूप से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह किसी से डरते नहीं है। उनकी मां ने उनका नाम प्रताप सिंह ऐसे ही नहीं रखा था।

एंटी करप्शन ब्यूरो के द्वारा रविवार को परिवहन विभाग में की गई ताबड़तोड़ कार्रवाई के बाद कांग्रेस (Congress) सरकार में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है।

विधानसभा के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए प्रताप सिंह खाचरियावास में सीधे तौर पर नाम लिए बगैर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को चुनौती दे डाली।

परिवहन मंत्री ने जिनको सामान्यतः डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) का करीबी माना जाता है, उन्होंने नाम नहीं लिए बगैर एंटी करप्शन ब्यूरो की कार्यवाही को सीधे तौर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को चुनौती देने का प्रयास किए जाने के रूप में देखा जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि शांति धारीवाल की अध्यक्षता वाली एक मंत्रिमंडलीय कमेटी ने पूर्वर्ती BJP सरकार के समय हुए घोटालों में क्लीन चिट देते हुए वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) सरकार को पाक साफ करार दे दिया था।

इसके कारण मंत्री प्रताप सिंह और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और शांति धारीवाल को लपेटे का प्रयास किया। परिणाम यह हुआ कि रविवार को एसीबी ने यातायात विभाग में ही ताबड़तोड़ कार्रवाई कर डाली।

प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा है कि वह इस तरह की कार्रवाई से डरने वाले नहीं हैं। उन्होंने दावा किया कि उनकी मां ने उनका नाम प्रताप सिंह यूं ही नहीं रखा है।