Jaipur news

आतंकवादी संगठन अल कायदा के निशाने पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी और तीन राज्यों में फैले जिला राज्य कार्यालय हैं।

आईबी ने अपनी खुफिया रिपोर्ट में बताया है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी और कार्यालयों पर अलकायदा कभी भी आतंकवादी हमले कर सकता है। इसको लेकर सरकार को खुफिया रिपोर्ट दी गई है।

आईबी की खुफिया रिपोर्ट के बाद महाराष्ट्र और पंजाब सरकार ने उचित कदम उठाते हुए आरएसएस के सभी पदाधिकारियों और कार्यालयों पर सुरक्षा बढ़ा दी है।

दूसरी तरफ राजस्थान के अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार ने अभी तक भी आरएसएस के किसी भी कार्यालय या किसी भी पदाधिकारी को सुरक्षा मुहैया नहीं करवाई है, जिसको लेकर भाजपा (BJP) ने सरकार पर हमला बोला है।

भारतीय जनता पार्टी के विधायक पूर्व मंत्री और विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने सदन में सरकार की नीयत पर सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार आरएसएस से नफरत करती है, जिसके चलते सुरक्षा भी नहीं दे रही है।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ ही भाजपा (BJP) पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) समय-समय पर राजनीति करने का आरोप लगाते रहते हैं।

इसको देखते हुए भाजपा (BJP) के अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ हमेशा अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) पर आरएसएस के साथ वैमनस्य रखने की बात कहते हैं।

उल्लेखनीय है कि आईबी ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि राजस्थान, पंजाब और महाराष्ट्र में आरएसएस के पदाधिकारियों और कई दफ्तरों पर अलकायदा हमला करने के लिए प्लान बना रहा है।