दुर्भाग्य है कांग्रेस का, कि राहुल गांधी की सभा में भाड़े के लोगों को लाया गया: राठौड़

दुर्भाग्य है कांग्रेस का, कि राहुल गांधी की सभा में भाड़े के लोगों को लाया गया: राठौड़
दुर्भाग्य है कांग्रेस का, कि राहुल गांधी की सभा में भाड़े के लोगों को लाया गया: राठौड़

jaipur news

जयपुर।
भाजपा के दिग्गज विधायक और विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने एक बार फिर कांग्रेस सरकार और कांग्रेस के नेता राहुल गांधी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर तीखे वार किए हैं। राठौड़ ने दिल्ली चुनाव की व्यस्तता के बीच एक के बाद एक तीन वीडियो बयान जारी कर कहा है कि कांग्रेस और कांग्रेस सरकार के लिए इससे अधिक दुर्भाग्य हो नहीं सकता कि राहुल गांधी की सभा के लिए भाड़े के लोगों को बुलाया गया।

राठौड़ ने इसके साथ ही कहा कि स्कूलों और कॉलेजों के छात्रों को पाबंद करके बुलाया गया, उसके बावजूद भीड़ नहीं जुटा पाए। उन्होंने कहा कि कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस पार्टी के पास अब लोगों को एकत्रित कर राहुल गांधी को दिखाने के लिए लोग नहीं है, जिसके चलते उनको सपना चौधरी के गानों से लोगों को रिझाना पड़ रहा है।

उपनेता प्रतिपक्ष राठौड़ ने कहा कि राहुल गांधी की सभा को लेकर भले ही कांग्रेस पार्टी और राज्य की सरकार गदगद हुए फिर रहे हों, लेकिन राहुल गांधी के मुंह से राज्य के लिए एक भी घोषणा नहीं करवा पाए, न ही राज्य की किसी घोषणा का नाम नहीं ले पाए।

इससे भी बढ़कर राठौड़ ने कहा है कि चारों और से घिरी हुई कांग्रेस सरकार, जो हर मोर्चे पर जनता के निशाने पर है, उसको संजीवनी देने के लिए आयोजित की गई सभी पूरी तरह से बैकार चली गई। उन्होंने कहा कि आज राजस्थान में कानून व्यवस्था जरजर है, आज आम आदमी दहशत की जिंदगी जी रहा है, बेरोजगारी का आलम चरम पर है, राजस्थान की सरकार की कोई भी योजना मूर्त रुप नहीं ले रही है।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां की अपील का असर, भोजन, राशन और सैनेटाइज मुहिम में जुटे भाजपा विधायक

किसानों के कर्जमाफी की बात करते हुए राठौड़ ने कहा कि अब किसानों का भरोसा इस सरकार से उठ चुूका है। बेरोजगारों को भत्ता देने की बात अब कोल कल्पि​त साबित हुई है। जिस तरह से प्रदेश के मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के बीच कुर्सी की जंग के चलते पंचायती राज चुनाव का जो सत्यानाश हुआ है, आखिर देश के सर्वोच्च न्यायालय को दखल देना पड़ा, जहां देश के पंचायती राज का आगाज नागौर से हुआ था, वहीं की सरकार कुछ नहीं कर पा रही है, बल्कि पंचायती राज का सत्यानाश करने में तुली हुई है।

सरकार सब तरफ से पूरी तरह से घिरी हुई है, इसलिए सरकार ने आनन फानन में विधानसभा का सत्र बुलाया और एक ऐसा कानून, जो देश में एससी एसटी का आरक्षण देता है, जिसके लिए उसको 5 जनवरी तक समर्थन करना था, उसकी अनुषंशा नहीं की, आखिर कई राज्यों की अनुषंशा के कारण जो कानून लागू हो गया, उसको लागू करने के लिए झूठी अनुषंशा की है।

राठौड़ ने कहा कि देश में इसकी व्याख्या भी जो की, वह हास्यापद है। दिल्ली चुनाव के बारे में बोलते हुए कहा कि यहां पर कांग्रेस यहां हाशिये पर चली गई है। आम आदमी पार्टी को लेकर कहा कि यह सरकार एक भी वादा पूरा नहीं कर पाई, इसलिए दिल्ली में भाजपा सरकार बनाएगी।