कोटा जिला प्रमुख कांग्रेस से निष्कासित, एसीबी ने किया था गिरफ्तार

surendr_gurajar_kota-jila-pramukh
surendr_gurajar_kota-jila-pramukh

jaipur news

जयपुर।
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने आज कोटा के जिला प्रमुख सुरेंद्र गुर्जर को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। बताया जा रहा है कि इसके पीछे एसीबी द्वारा पकड़ा जाना है, हालांकि, सूत्रों का दावा है कि लगातार शिकायतों के बाद यह निर्णय किया गया है।

कांग्रेस ने कहा है कि राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के निर्देशानुसार पीसीसी के संगठन महासचिव महेश शर्मा ने कार्यालय आदेश जारी कर कोटा के जिला प्रमुख सुरेन्द्र गुर्जर को कांग्रेस पार्टी से निष्कासित कर दिया है।

कांग्रेस कमेटी के द्वारा हाल ही में एक सबसे बड़ा राजनीति फैसला लिया गया है। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कई बार नेताओं को पार्टी विरोधी गतिविधियों से अलग रहने और भ्रष्टाचार करने वालों और भ्रष्टाचार नहीं करने की सलाह दी थी।

बता दें कि पांच दिन पहले ही राज्य भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने कोटा के जिला प्रमुख सुरेंद्र गुर्जर को रिश्वत के एक मामले में गिरफ्तार किया था। एसीबी ने गुर्जर को कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 4 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

जानकारी के अनुसार कोटा के कालिया खेड़ी गांव के सरपंच ने ब्यूरो में किसी ने शिकायत दी थी, कि निर्माण कार्यों की स्वीकृति जारी करने के लिए जिला परिषद में तैनात जिला प्रमुख के पीए चंद्रप्रकाश गुप्ता ने 25 हजार रुपये मांग की थी।

शिकायत का सत्यापन एसीबी द्वारा कराया गया तो वो सही पाई गई थी। जिसपर कार्रवाई करते हुए एसीबी ने जिला प्रमुख सुरेंद्र गुर्जर के निजी सहायक चंद्रप्रकाश गुप्ता को 25 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ लिया था। उसका साथी दूसरा बाबू कमलकांत वैष्णव मौके से फरार हो गया था।

यह भी पढ़ें :  पायलट भी गहलोत सरकार के लिए सिंधिया की तरह बने संकट?