CAA को धन्यवाद कि टोपी और दाढ़ी के साथ देश के लोगों ने तिरंगा भी थाम लिया है: डॉ. पूनियां

Jaipur news

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि कांग्रेस के हर दिल अजीज माननीय राहुल गांधी का जयपुर के प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थान पर अपने चिर परिचित अंदाज में जैसे कि राजस्थान की और जयपुर की जनता को उम्मीद थी, सांस्कृतिक गानों से और हास्य से भरपूर आज की युवा आक्रोश रैली यह संपन्न हुई।

पूनियां ने कहा कि मैं कल भी सोच रहा था कि राहुल गांधी हमेशा कुछ न कुछ आविष्कार करते हैं कुछ अनूठा करते हैं, तो मेरे मन में कल भी प्रश्न था कि चुनाव तो दिल्ली में चल रहे हैं और रैली जयपुर में हो रही है, मुझे ताज्जुब हुआ कि इतना राजनीतिक चातुर्य कहां से लाते हैं, इसके बारे में भी देश को सोचने की आवश्यकता है, जो जगह है कवि सम्मेलन, महामूर्ख सम्मेलन के लिए इस जगह को चुना जाता था, वहां पर यह रैली हुई।

ऐसा लगा कि प्रचारित तो बहुत जुलूस निकालकर किया, लेकिन आखिरकार झांकी में बदल गया। इसमें भी जो करामात हुई, कल रात तक भी व्यापार मंडलों के फोन आ रहे थे कि साथ क्या करें कुछ ऐसा क्या हुआ कि थानों से पुलिस के लोग आगे कह रहे हैं कि आप की दुकानों पर करने वाले सारे कर्मचारी कल अल्बर्ट हॉल जाने चाहिए और आज की दिहाड़ी भी आपको देनी पड़ेगी।

पिछली बार राहुल गांधी की रैली में जब यह लोग गए थे तो आपने इनकी तनख्वाह काटने की इस बार सरकार का निर्देशन का नहीं काटे, ऐसे बहुत सारे वीडियो कॉलेज के विद्यार्थियों ने भेजे हैं, जिसमें वह के साथ जबरदस्ती जबरदस्ती के दौरान मोदी जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं और भारतीय जनता पार्टी के यूपी के साथ-साथ तिरंगा भी आ गया और भारत माता का जयकारा भी आ गया है।

यह भी पढ़ें :  भाजपा जेल भरो पर अड़िग, सरकार लगाएगी कर्जमाफी के कैंप

अच्छी बात है कि कांग्रेस आदत बदल रही है, लोगों की धीरे-धीरे उसकी बात कर रही है। राहुल गांधी ने नागरिकता संशोधन कानून में कुछ नही कहा, और जो कहा, वो असत्य कहा।

हिंदुस्तान और देश दोनों अलग अलग है। अजमेर के विद्यार्थियों की वीडियो आये हैं, उनमें कहा जा रहा है कि उनको जबरन ले जाया जा रहा था। कॉलेज वालों को कहा गया कि बस आएगी और सभी कॉलेजों-स्कूलों को न्यूनतम 100 विद्यार्थी भेजने हैं। उन विद्यार्थियों को भी कहा गया यदि नहीं जाओगे तो प्रैक्टिकल में गड़बड़ होगी।

जो वीडियो सामने आए हैं, वो आप लोगों के विभिन्न रूपों के माध्यम से सुनने को मिले। केवल देश भक्ति का रंग नहीं था, लोक संस्कृति और बाकी जो हमारे फिल्मी मनोरंजन के अच्छे गाने होते हैं, जिस पर लोग नाचते हैं, उसका भी युवाओं ने भरपूर आनंद लिया तो कुल मिलाकर यह जो रैली थी, इसको युवा आक्रोश का नाम दिया, तो न युवा थे, आक्रोश था।

राहुल गांधी को इंगित करते हुए कहा कि आपने जो कहा कि भारत के बारे में कैपिटल ऑफ रेप, उनको मैंने कल कहा था इस बात के लिए कि ऐसा न करें, क्योंकि इस समय नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो यह कहता है कि हिंदुस्तान में राजस्थान अपराध ग्रस्त टॉप राज्यों में शुमार हो गया है।

कहा, आप की सरकार है और उसमें सबसे ज्यादा 65% अपराध हुए, महिलाओं के प्रति राजस्थान में और दूसरे नंबर पर बलात्कार की घटनाएं सर्वाधिक राजस्थान में घटित हुई।

आपने जो कुछ आंकड़े प्रस्तुत किया, अपने भाषण के दौरान उसमें यह कहा, यूपीए सरकार के दौरान उन्होंने इंडिया की 6.1% अभी 2014 से 19 की इस सरकार ने वर्ल्ड की जीडीपी ग्रोथ 3.4%, चाइना की 6.73%, और इंडिया के 7.81% रही है।

यह भी पढ़ें :  23 विधायकों की डील के मामले में भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव पेश

उन्होंने इस बात का उल्लेख किया नौकरियों के बारे में जो कर्मचारी राज्य बीमा निगम है, उसके बारे में हमको जानकारी मिली है और जो सांख्यिकी कार्यालय राष्ट्रीय उसमें कुल मिलाकर नवंबर 2019 के दौरान 2019 के दौरान देश में 14.8% नई नौकरियां सृजित हुई।

भारत के प्रधानमंत्री के कार्यकाल में डॉलर की क्या स्थिति थी। मनमोहन सिंह के समय डॉलर के मुकाबले रुपया 38% था, वाजपेई के समय 5% और नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में 17% कमजोर रहा है।

नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में अमित शाह आए और उन सब बातों का उन्होंने उल्लेख किया, उसके बाद अशोक का जोधपुर में जो प्रेस कांफ्रेंस हुई, उन्होंने दो बातें कहीं अमित शाह टिड्डी दल के हमले का जिक्र नहीं किया। उसी दौरान ने कहा कि यदि नागरिकता संशोधन कानून लागू होगा, तो भारत भी रूस और पाकिस्तान की तरह टुकड़ों में बंट जाएगा।

राहुल गांधी राजस्थान में आए थे, विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने कहा था कि 10 दिन में कर्ज माफी नहीं हुआ तो हम मुख्यमंत्री बदल देंगे। यह राहुल गांधी ने किया था, हम सब लोगों को पता है कर्जा माफ नहीं हुआ।

मुझे लगता है जवाब देना चाहिए था कि राजस्थान में किसानों की मौत, बेरोजगारों के वादे और महिला अत्याचार पर कुछ नहीं बोले सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान सरकार ने का बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया लेकिन जब आज मैं सुबह आ रहा था, तब नोजवानों ने चेक मुझे भी दिए थे।

तीसरा, अपराधों के बारे में कुछ नहीं कहा और चौथा कल कहा था कि राहुल गांधी ने तो किसान के बोले बोले तो यह किसकी रैली थी समझ नहीं आई। कुल मिलाकर मनोरंजन भी आज जला ढंग से नहीं हुआ। मुझे लगता है कि आगे भविष्य में फिर इस तरीके की कांग्रेसी याद और ज्यादा इस तरीके कार्यक्रम को और ज्यादा अच्छे तरीके से करें, ताकि इस तरीके के सांस्कृतिक आयोजन के जरिये मनोरंजन हो सके।

यह भी पढ़ें :  डॉ. सतीश पूनियां ने अशोक गहलोत पर बोला तगड़ा सियासी हमला

या तो रणनीतिकार हैं, उनको इस बात का पता नहीं है कि दिल्ली में भी कांग्रेस पार्टी चुनाव लड़ रही है, राहुल की प्रतिभा का स्तेमाल दिल्ली में नही कर रहे हैं।

बुधवार को विभिन्न संगठनों के द्वारा नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ भारत बंद के आह्वान पर सतीश पूनिया ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी की आड़ में वे कुछ भी कर रहे हैं।

नागरिकता संशोधन कानून पास होने के बाद देश में हुए दंगों को लेकर सतीश पूनिया ने कहा कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के 73 बैंकों में 120 करोड़ रुपए इस हमले के खिलाफ हिंसा प्रायोजित करने के लिए इन पैसों का उपयोग हुआ।

कश्मीर और इसी तरीके से वसीम का गिरफ्तार होने के बाद पूछताछ के बाद इन बातों का खुलासा हुआ तो समझ लेना मिल गया अशांति पैदा करने के लिए किस तरीके से उसमें हुआ है और भारत का लोकतंत्र करो अगर बात करने के लिए कांग्रेस लगी हुई है।