जयपुर।

कांग्रेस (Congress) पार्टी के द्वारा तीन सूचियों में अपने 199 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की जा चुकी है। जिनमें से 5 सीटों पर पार्टी अपने सहयोगियों के साथ मैदान में उतर रही है।

दौसा जिले के महुआ सीट पर पार्टी अभी कोई फैसला नहीं कर पाई है। गौरतलब है कि इस सीट पर वर्तमान में BJP के ओमप्रकाश हुडला विधायक हैं, लेकिन उनके द्वारा पार्टी छोड़े जाने के कारण कांग्रेस (Congress) ने अभी फैसला नहीं किया है।

भारतीय जनता पार्टी के द्वारा अब तक 170 उम्मीदवार मैदान में उतारे जा चुके हैं। नागौर की सबसे हॉट सीट बनी निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) का कार्यक्षेत्र, खींवसर से BJP के उम्मीदवार ने चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया है।

भारतीय जनता पार्टी ने दाल बाटी को खीमसर विधानसभा सीट से अपना उम्मीदवार बनाया था, लेकिन बीएल भाटी ने खींवसर से चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है।

RLP के लिए बुरी खबर: 5 प्रत्याशियों के नामांकन पत्र खारिज-

भाटी ने कहा है कि सुजानगढ़ सुरक्षित सीट है, जहां से उन्होंने टिकट मांगा है, अगर भाजपा (BJP) सुजानगढ़ से टिकट देती है तो वह चुनाव लड़ने को तैयार हैं, अन्यथा वह फ्री हैंड हैं, और कहीं से भी चुनाव लड़ सकते हैं।

आपको बता दें कि बीएल भाटी यातायात एवं सार्वजनिक निर्माण मंत्री यूनुस खान के ओएसडी रहे हैं। संभवत यूनुस खान की सिफारिश पर ही बीएल भाटी को टिकट दिया गया था।

वीरेंद्र सहवाग, विजेंद्र सिंह, सुशील कुमार और फौगाट बहने करेंगी बेनीवाल के लिए धुंआधार प्रचार!

दूसरी तरफ कांग्रेस (Congress) पार्टी के द्वारा खींवसर से प्रत्याशी बनाए गए पूर्व आईपीएस अफसर सवाई सिंह चौधरी भी यहां से चुनाव लड़ने के ज्यादा इच्छुक नहीं बताए जा रहे हैं। सवाई सिंह चौधरी के नजदीकी लोगों का कहना है कि पार्टी के द्वारा उनको गलत जगह से टिकट दिया गया है। हालांकि उन्होंने चुनाव लड़ने से इनकार नहीं किया है।

आपको बता दें कि खींवसर विधानसभा से हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) लगातार दो बार चुनाव जीत चुके हैं। साल 2008 में वह भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर पहली बार चुनाव जीते थे। उसके बाद 2013 में निर्दलीय विधायक बने। वर्तमान में उनकी पोजीशन काफी सॉलि़ड बताई जा रही है, जिसके कारण यह दोनों प्रत्याशी घबराए हुए हैं।