मुंबई-में-बंद-के-दौरान-बस-पर-पथराव,-चालक-घायल

Jaipur news

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Baag) से जो धरना प्रदर्शन की एक श्रंखला शुरू हुई, वह उत्तर प्रदेश के लखनऊ से शुरू होते हुए देश के विभिन्न क्षेत्रों में फैलती जा रही है।

जयपुर में भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ धार्मिक आतंकवाद का रूप देखने को मिला। बताया जा रहा है कि इस रैली में देश विरोधी नारे भी खूब लगे। हालांकि मीडिया को ही इस तरह की नारेबाजी को कवरेज नहीं कर दिया गया।

जयपुर में पुलिस कमिश्नरेट के चारों तरफ सी स्कीम और उसके आसपास के इलाके में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ एक धर्म विशेष के लोगों ने शुक्रवार को रैली निकाली।

इस रैली की खास बात यह थी कि जो नारे अब तक जेएनयू और शाहीन बाग (Shaheen Baag) में सुनाई दे रहे थे, जो नारे अब तक जम्मू-कश्मीर में सुनाई दे रहे थे और जो नारे अब तक पाकिस्तान (Pakistan) में सुनाई देते थे, वो जयपुर में लगाए गए।

पूरे इलाके में एक विशेष के लोगों ने कांग्रेस (Congress) के समर्थन के साथ पूरे इलाके में दहशत का माहौल बनाया।

हालांकि, पुलिस और प्रशासन की पुख्ता व्यवस्था थी। लेकिन लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा और कई जगह ऐसी स्थिति बनी, मानों पाकिस्तान (Pakistan) में से गुजर रहे हैं।

दूसरी तरफ शुक्रवार को जयपुर में 22 गोदाम पुलिया के पास पाकिस्तान (Pakistan) विस्थापित नागरिकों का भी नागरिकता संशोधन कानून के पक्ष में डर रहा था। इस धरने का समर्थन भारतीय जनता पार्टी ने किया।