-उपमुख्यमंत्री को माफी मांगनी चाहिये: राजेन्द्र राठौड़

Jaipur political news

15वीं विधानसभा का चौथा सत्र शुक्रवार से शुरू होने जा रहा है, जिसके चलते सदन के अंदर विपक्ष की ओर से कांग्रेस (Congress) सरकार को घेरने हेतु गुरूवार को भाजपा (BJP) प्रदेश कार्यालय में विधायक दल की अलग बैठक बुलाई गई।

बैठक की अध्यक्षता नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने की, तो वहीं बैठक में भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां (Satish Poonia), राष्ट्रीय सह-संगठन प्रभारी वी. सतीश, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ भी मौजूद रहे।

विधायक दल की बैठक के बाद भाजपा (BJP) के वरिष्ठ नेता और राजस्थान विधानसभा (Assembly of Rajasthan) के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि सरकार की सबसे बड़ी असफलता का धोतक है कल का विधानसभा सत्र को बुलाना है।

एससी एसटी आरक्षण 12 दिसंबर को ही लोकसभा और राज्यसभा में पारित कर दिया गया था।

इसमें आधे राज्यों की सहमति आवश्यक होती है और वो सहमति दुर्भाग्य से राजस्थान की सरकार और राजस्थान का प्रशासनिक तंत्र नहीं दे पाया।

जिसकों शब्दों में क्या कहूँ, निर्लजता का काम किया है। इसकी 25 जनवरी 2020 तक की समय अवधि है।

क्या राज्य सरकार इसको 15 दिन पहले नहीं कर सकती थी क्या राजस्थान की कांग्रेस (Congress) सरकार नींद में थी, जिसके कारण विधानसभा की सारी परम्पराओं को ताक में रखा गया और अब आनन फानन में सत्र बुलाया गया है।

उन्होंने कहा कि एससी एसटी आरक्षण की समय अवधि 25 जनवरी 2020 से 10 साल बढ़ाकर 2030 तक कर दिया गया है।

इसके बारे में जो राय देनी थी उसकी अंतिम सीमा 25 जनवरी है। दुर्भाग्य से नींद में सोई सरकार को, अचानक कहीं से इसके बारे में जानकारी मिली। अगर 25 तारीख को हम इस पर अपनी सहमति नहीं देंगे तो राजस्थान का एससी एसटी वर्ग हमारे बारे में यह सोचेगा की राजस्थान सरकार हमारे लिए गंभीर नहीं है।

उन्होंने कहा कि हमारी केंद्र सरकार को राजनीति के चक्कर में आरोप प्रत्यारोप करते रहते हैं। 2 अप्रेल 2018 में जो घटना हुई थी उसको लेकर अनाप-शनाप बातें की गई, लेकिन इसको लेकर इनको केवल सहमति देनी थी वह भी समय पर नहीं किया गया। इस कारण 24 तारीख को आनन फानन में सत्र बुलाया गया।

कटारिया ने कहा कि राज्यपाल का अभिभाषण का सत्र 21 दिन के नोटिस पर बुलाया जाता है लेकिन इतिहास में यह पहली बार हो रहा है कि इतने कम नोटिस पर सत्र आहूत किया गया है।

कुछ अपवाद को छोड़कर इस तरह का सत्र नहीं बुलाया जाता है। विधायकों को इसी 21 दिन के अंदर अपने प्रश्नों को तैयार करने का समय मिलता है और ना तो विधायक प्रश्नों की तैयारी कर पाए और ना ही सरकार राज्यपाल के अभीभाषण की तैयारी कर पाई।

कटारिया ने कहा कि राज्यपाल के अभिभाषण को सभी विभागों के साथ बैठकर के उसका एक-एक डिपार्टमेंट के लिए हुए कार्यों को सम्मिलित करते हुए भाषण की तैयारी करता है।

उन्होंने क्या तैयारी की होगी ये तो भगवान ही जानें और किसने इसको देखा होगा और किसने नहीं जो लिख दिया वो फाइनल।

इस विधानसभा के सत्र का जो मजाक हुआ है वो सारा देश देखेगा के वास्तव में कितने चर्तुर और अच्छे लोग हैं जो समय की मर्यादा को भी नहीं समझते हैं।

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) को कटघरे में खड़ा करते हुये कहा कि विधानसभा से सम्बन्धित वक्तव्य कार्य सलाहकार समिति तय करती है कि सदन कब तक चलेगा और उसका प्रतिवेदन जब सदन में मंजूरी के लिये आता है, उसके मंजूर होने के बाद वो सार्वजनिक होता है।

इससे पहले भी जब कई बार कार्य सलाहकार समिति ने कोई बात बाहर की है, तो उसे माफी मांगनी पड़ी है। सचिन पायलट (Sachin Pilot) को इसका ज्ञान नहीं है, मैं यह मांग करूंगा कि उपमुख्यमंत्री इसके लिये माफी मांगे।

राठौड़ ने कहा कि सरकार आनन-फानन के अन्दर सारे नियम प्रक्रियों को तोड़ते हुये सिर्फ चार दिन के नोटिस पर बजट (Budget) सत्र (Budget Session) को प्रारम्भ कर रहीं है, इससे बड़ा दुर्भाग्य कुछ हो नहीं सकता।

जो भी विधानसभा में असंवैधानिक नियम और प्रक्रियाओं के विपरित होगा और सरकार अपने बहुमत के आधार पर हठधर्मिता करना चाहेगी, तो भाजपा (BJP) विधायक दल इसका पुर्जोर विरोध करेगा।

राठौड़ ने कहा कि यह सिर्फ राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को दिखाने के लिये आनन-फानन में सत्र बुलाया जा रहा है।

नागरिकता संशोधन कानून सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधिन है, उस पर भी एक संकल्प लाकर यह सिद्ध करना चाहते है कि इनके जो नोसिखिया राष्ट्रीय नेता चाहते है उसी को राजस्थान विधानसभा (Assembly of Rajasthan) में पारित करवाकर विधानसभा की परमराओं को और इतिहास को कलंकित करना चाहते है, इसको भाजपा (BJP) कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

सीएए (CAA) पर कांग्रेस (Congress) बरगलाना बंद करे,
देशहित में करे काम: डाॅ. सतीश पूनियां (Satish Poonia)

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां (Satish Poonia) ने विद्याधर नगर विधानसभा क्षेत्र में नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन में युवा सम्मेलन में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को श्रद्धांजलि देते हुये कहा कि नेताजी का यह नारा ‘‘तुम मुझे खुन दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा’’ हम सबको असमिति ऊर्जा देने वाला है और यह नारा कांग्रेस (Congress) के मुंह पर तमाचा है जो यह कहते है कि भारत को उन्होंने आजादी दिलाई।

वास्तव में भारत की आजादी उन वीर शहीदों की बदौलत है, जिन्होंने देश के लिये शहादत दी।

डाॅ. पूनियां ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की प्रस्तावित जयपुर रैली पर तंज कसते हुये कहा कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) जहां भी जाते है, वहां भाजपा (BJP) को फायदा होता है।

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की रैली में लोग उबासी लेते रहते है या फिर उनकी बातें सुन कर हंसते है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) जहां पर भी भाषण देते है, जनता को समझ आ जाता है कि वह अपरिपक्व नेता है।

कांग्रेस (Congress) के राहुल गांधी (Rahul Gandhi) आजादी की बात करे और आज उस कांग्रेस (Congress) के नाम पर वोट मांगे, तो यह समझ से परे है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि गांधी जी ने कहा था कि कांगे्रस किसी दल का नाम नहीं है, बल्कि वह समूह है। जिसने भारत की आजादी के लिये संघर्ष किया था, यह एक टाईटल था, जो कि आजादी के बाद इस टाईटल को खत्म कर देना चाहिये।

क्योंकि भारत अब आजाद हो चुका है, किन्तु नेहरू जी नहीं माने। लेकिन अब लगने लगा है कि कांग्रेस (Congress) के बाकि लोगों ने मानना शुरू कर दिया है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) जी के नेतृत्व में भारत विकास की ओर अग्रसर है।

कश्मीर में धारा 370 हटाना, राम मंदिर की दिशा तय करना और हमारे वह भाई-बहन जो पडौसी देशों में यातना का जीवन जी रहे थे, उन्हें शरणार्थी के रूप में भारत में रहने पर अब भारत की नागरिकता प्रदान करना तमाम ऐसे कार्य है जो कि बहुत पहले हो जाने चाहिये थे, लेकिन मजबूत इरादों वाली नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) जी की सरकार ने देशहित में इतने बड़े फैसले किये।

नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) जी की बढ़ती लोकप्रियता से विपक्ष बौखलाया हुआ और विपक्ष कभी नहीं चाहता था कि इन समस्याओं का समाधान हो। इसलिये विपक्ष भ्रम फैलाकर लोगों को गुमराह कर रहा है।

डाॅ. पूनियां ने इस दौरान विद्याधर नगर विधानसभा के विधायक नरपत सिंह राजवी को जन्मदिन की बधाई दी और पूर्व उपराष्ट्रपति और मुख्यमंत्री भैरोंसिंह शेखावत की राजनीतिक विरासत को आगे ले जाने की प्रशंसा की।

कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस (Congress) के जिला महासचिव मानधाता सिंह धमोरा को डाॅ. पूनियां ने भाजपा (BJP) की सदस्यता ग्रहण करवाई और पार्टी में आने पर उनका स्वागत किया।

आमेर विधानसभा क्षेत्र के 40 नव-निर्वाचित सरपंच भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष के निवास पर पहुँचे, भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां (Satish Poonia) ने नव-निर्वाचित सरपंचों का किया स्वागत एवं अभिनंदन

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां (Satish Poonia) के निवास पर आज आमेर विधानसभा क्षेत्र के 40 नव-निर्वाचित सरपंच पहुँचें, वहाँ पर भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष ने उनका स्वागत सत्कार कर उन्हें जीत की बधाई दी और माला पहनाकर उनका अभिनंदन किया।

इस अवसर पर सरपंचों को सम्बोधित करते हुए भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां (Satish Poonia) ने कहा कि गाँव का व्यवस्थित विकास और सद्भाव ही सरपंच का महत्वपूर्ण काम है।

हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) जी ने गाँवों के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है। उनका मानना है कि गाँव समृद्ध होंगे तो देश स्वतः ही उन्नत हो जाएगा।

हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) जी ने स्वच्छ भारत का जो संकल्प लिया है वो आपके सहयोग के बिना सम्भव नहीं है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि जब एक सरपंच यह संकल्प ले कि मुझे अपने गाँव को बदलना है तो उसे ऐसा करने से कोई नहीं रोक सकता।

गाँव की सभी समस्याएं एक जाजम पर बैठकर सरपंच ही सुलझाता है। गाँव का विकास सरपंच एवं वहाँ के निवासियों पर निर्भर करता है।

डाॅ. पूनियां ने सभी सरपंचों को पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया और कहा कि प्रत्येक पंचायत समिति के विकास के लिए वे कृत संकल्प है और सभी सरपंचों को पूर्ण सहयोग करते रहेंगे। इस दौरान भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष की धर्मपत्नी मोहिनी पूनियां भी उपस्थित रहीं।