गहलोत-पायलट में फिर हुई रार, शब्दबाणों से करते रहे एकदूजे पर वार

Jaipur news

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच शब्द बाणों की बौछार बौछारें थमने का नाम नहीं ले रही हैं।

दोनों की बीच गाहे-बगाहे बार-बार इस तरह के शब्द बाण चलते हैं, जिससे खुद को बड़ा साबित करने के लिए प्रयास किए जाते रहे हैं।

बीते 13 महीने के दौरान दोनों के बीच कई बार इस तरह की बातें सामने आई हैं, जिससे आम कांग्रेसी असहज महसूस करते हैं।

बुधवार को एक बार फिर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच राहुल गांधी की 28 जनवरी को होने वाली रैली से पहले तैयारी के दौरान एक दूसरे के खिलाफ हार चरम पर रही।

इस दौरान दोनों के बीच में आ गए खेल मंत्री और यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चांदना।

सबसे पहले बोलते हुए अशोक चांदना ने कहा कि ‘मुझे यूथ कांग्रेस का अध्यक्ष बने हुए 7 साल पूरे हो गए हैं, मैं 2013 में प्रदेश अध्यक्ष बना था, हमारे कार्यकर्ता जी जान से इस आयोजन को सफल बनाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।’

इसके बाद प्रोटोकॉल के हिसाब से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले, उन्होंने कहा ‘चांदना जी आपने तो पायलट साहब का रिकॉर्ड तोड़ दिया, अब चुनाव होंगे तो हो सकता है कि बदलाव भी हो, इस रैली को विदाई समारोह समझ कर अच्छे से आयोजित करना है।’

प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर बोलते ही सचिन पायलट ने कहा ‘रिकॉर्ड बनते ही टूटने के लिए होते हैं, आपने के लिए मौका है, रिकॉर्ड तोड़ते लेनी चाहिए, चांदना जी मेरे छोटे भाई हैं और वह मेरे बाईं ओर बैठे हैं, गहलोत जी मुख्यमंत्री हैं और मेरे दाएं तरफ बैठे हैं, और मैं बीच में बैठा हूं।’

यह भी पढ़ें :  राजस्थान के मुख्यमंत्री और मंत्री भी नहीं ले पा रहे हैं लॉकडाउन को लेकर फैसला

सचिन पायलट ने स्पष्ट तौर पर कहा कि अगर अशोक चांदना प्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष बनते हैं, तो निश्चित तौर पर अशोक गहलोत की जगह वह खुद मुख्यमंत्री बन जाएंगे।

एक तरफ जहां अशोक गहलोत ने सचिन पायलट के अध्यक्ष पद से हटने और अशोक चांदना को अध्यक्ष बनने की तरफ इशारा किया तो दूसरी तरफ उसी अंदाज में जवाब देते हुए सचिन पायलट ने कहा कि अगर चांदना अध्यक्ष बनेंगे तो वह खुद अशोक गहलोत की जगह मुख्यमंत्री बन सकते हैं।