पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव-2020: दूसरे चरण का मतदान शांतिपूर्ण संपन्न

दूसरे चरण का मतदान बुधवार को, स्वतंत्र-निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान की सभी तैयारियां पूर्ण, द्वितीय चरण में 77 लाख से ज्यादा मतदाता कर सकेंगे, मताधिकार का इस्तेमाल, 15334 उम्मीदवार संरपच पद के लिए मैदान में 11 हजार से ज्यादा ईवीएम मशीनों से होंगे 74 पंचायत समितियों में चुनाव 25 पर्यवेक्षकों की रहेगी चुनावी प्रक्रिया पर पैनी नजर।

जयपुर 21 जनवरी।

पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव-2020 में पंच-सरपंच के लिए दूसरे चरण का मतदान बुधवार को प्रातः 8 बजे से सायं 5 बजे तक मतदान करवाया जाएगा। राज्य निर्वाचन आयोग ने स्वतंत्र-निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव सम्पन्न कराने के लिए सभी तैयारियां कर ली है।

दूसरे चरण की 74 पंचायत समितियों की 2312 ग्राम पंचायतों के 15127 वार्डों में मतदान करवाया जाएगा। इन 74 पंचायत समिति क्षेत्र में कुल 77 लाख 56 हजार 416 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे, जिनमें से 40 लाख 13 हजार 220 पुरुष और 37 लाख 43 हजार 174 महिलाएं व 22 अन्य मतदाता शामिल हैं।

सरपंच पदों के लिए मतगणना बुधवार को ही करवाई जाएगी। उप सरपंच के लिए चुनाव 23 जनवरी को करवाया जाएगा। गौरतलब है कि द्वितीय चरण के 25 जिलों में 21 सरपंच और 7 हजार 466 पंच निर्विरोध चुन लिए गए हैं।

राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त पीएस मेहरा ने सभी मतदाताओं से अपील की है कि वे देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए निर्भय होकर बिना किसी डर व दबाव के मतदान करें।

उन्होंने मतदाताओं से मतदान समाप्ति के अंतिम क्षण का इंतजार ना करते हुए भी मतदान करने की अपील की है।

यह भी पढ़ें :  प्रियंका जयपुर निकाह में आई, अच्छा होता उन पीड़ित माताओं से मिलती, जिनकी कोख गहलोत सरकार की लापरवाही ने उजाड़ दी : डॉ. पूनियां

उन्होंने कहा कि मतदाता मतदान, मतगणना के दौरान एवं चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद शांति बनाए रखें और कानून व्यवस्था बनाए रखने में जिला प्रशासन की मदद करें।

सरपंच के लिए 15 हजार 334 तो पंच के लिए 43 हजार से ज्यादा उम्मीदवार मैदान में

मेहरा ने बताया कि द्वितीय चरण में 74 पंचायत समितियों की 2333 ग्राम पंचायतों में सरपंच पदों के लिए 24 हजार 924 उम्मीदवारों ने 25 हजार 9 नामांकन पत्र दाखिल किए।

संवीक्षा के बाद इनमें से 24 हजार 383 नामांकन वैद्य पाए गए। नाम वापसी की तिथि तक इनमें से 9 हजार 28 उम्मीदवारों ने अपने नाम वापस ले लिए। द्वितीय चरण के 25 जिलों में 21 सरपंच निर्विरोध चुन लिए गए हैं।

इस तरह द्वितीय चरण में सरपंच पद के लिए कुल 15 हजार 334 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमाएंगे।

इसी तरह पंच पद के लिए प्रदेश के 25 जिलों की 2333 ग्राम पंचायतों के 22 हजार 593 वार्डों में 66 हजार 647 उम्मीदवारों ने 66 हजार 696 नामांकन पत्र दाखिल किए।

संवीक्षा के बाद 64 हजार 751 उम्मीदवारों के नामांकन वैद्य पाए गए। इन उम्मीदवारों में से 13 हजार 909 उम्मीदवारों ने नाम वापसी के दिन अपने नाम वापस ले लिए।

प्रदेश भर में 7 हजार 466 पंच निर्विरोध चुन लिए गए हैं। वर्तमान में 43 हजार 376 उम्मीदवार पंच पद के लिए मैदान में रहेंगे।

11 हजार से ज्यादा ईवीएम मशीनों से होंगे चुनाव

द्वितीय चरण के चुनाव में 11 हजार से ज्यादा ईवीएम मशीनों के द्वारा चुनाव करवाए जाएंगे। सभी संस्थाओं के चुनाव में लगभग 30 प्रतिशत मशीनें रिजर्व में रखी गई हैं।

यह भी पढ़ें :  डॉ. एसएस राणावत ने ही जलाई थी 5 करोड़ की दवाइयों का रिकॉर्ड

उन्होंने बताया कि चुनाव के दौरान मशीनों में किसी भी तरह की परेशानी आने पर प्रत्येक जिले में भारत इलेक्ट्रोनिक्स लिमिटेड और इलेक्ट्रोनिक्स काॅरपोरेशन आॅफ इंडिया लिमिटेड के इंजीनियर्स हर समय उपलब्ध रहेंगे।

आयुक्त कार्यालय में भी इंजीनियर तकनीकी मदद के लिए सजग रहेंगे। मशीनों की देखरेख के लिए इंजीनियर्स 10 जनवरी से ही जिलों में पहुंच गए हैं।

किसी भी शिकायत के लिए कंट्रोल रूम में दे सूचना

चुनाव आयुक्त ने बताया कि चुनाव कार्य से संबंधित सूचनाओं के आदान-प्रदान एवं आमजन द्वारा चुनाव संबंधी किसी भी गतिविधि के बारे में प्राप्त शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही करने के लिए आयोग द्वारा मुख्यालय एवं जिला स्तर पर चुनाव नियन्त्रण कक्ष स्थापित किए थे, जोकि लगातार पारियों के अनुसार रात-दिन कार्य कर रहे हैं।

वैकल्पिक दस्तावेजों से भी हो सकेगा मतदान

आयुक्त ने कहा कि मतदान के लिए प्रत्येक मतदाता भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्वाचक फोटो पहचान पत्र अपने साथ जरूर लाएं।

इनके अभाव में 12 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाकर भी मतदाता अपना वोट डाल सकते हैं।