कांग्रेस की हालत ‘सूत न कपास, जुलाहों में लठम-लठा’: डॉ. पूनियां

Jaipur news

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने एक बार फिर से कांग्रेस पार्टी राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर हमला बोला है।

सतीश पूनिया ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट का राजस्थान में आगमन मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षा के लिए हुआ था, लेकिन बड़े रसूख हाथ के चलते पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक बार फिर से मुख्यमंत्री बन गए और इसके कारण राजस्थान की हालत खराब से बेहद खराब हो गई।

उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं के बीच मुख्यमंत्री बनने की प्रतिस्पर्धा ऐसी है कि ‘राजस्थान सूत न कपास जुलाहे में लट्ठम-लठा हो गया है।’ सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान का दुर्भाग्य है कि यहां पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के राजनीतिक युद्ध के चलते कोटा में लगातार बच्चों की मौत हो रही है और दोनों राजनीति का अखाड़ा बना कर राजस्थान की राजधानी जयपुर को अपराध की राजधानी बना चुके हैं।

बीते दिनों अशोक गहलोत के कहा गया था कि बीजेपी के राज में अधिक बच्चों की मौत हो गई, जबकि कांग्रेस के राज में कम हो रही है।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सतीश पूनिया ने कहा कि यह कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है, बच्चों की मौत नहीं होनी चाहिए, इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।

सतीश पूनिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सलाह देते हुए कहा कि राजस्थान में आप की सरकार लगातार 47 साल रही है, आपको किसने मना किया था कि राजस्थान के अस्पताल सुधारते सुधारते और स्कूलों की हालत सुधार दें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस के मेनिफेस्टो में भी इन बातों का जिक्र किया गया था, किंतु काम नहीं किया गया।

यह भी पढ़ें :  तेजाजी के परम भक्त हनुमान बेनीवाल खरनाल को धार्मिक पर्यटन स्थल बनाने में जुटे

इसके साथ ही बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्री नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रैलियां निकाल रहे हैं, जबकि राजस्थान में बच्चों की मौत हो रही है।

सतीश पूनिया ने कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में नागरिकता संशोधन कानून की बात कही थी, जिसको हम लागू कर रहे हैं और उसी का अशोक गहलोत विरोध कर रहे हैं।

राजस्थान की स्थिति गंभीर बताते हुए सतीश पूनिया ने कहा कि जिस तरह से राजस्थान में राजनीतिक हो रही है, वह दुर्भाग्य है और इस मामले में केंद्र सरकार को दखल देकर कोई रास्ता निकालना चाहिए।