17 C
Jaipur
शनिवार, नवम्बर 28, 2020

RLP की पंचायत चुनाव में यह है खास रणनीति, BJP-Congress को होगी दिक्कत

- Advertisement -
- Advertisement -

Political news

राजस्थान में पंचायती राज चुनाव को लेकर तारीखों का ऐलान हो गया है। इसके साथ ही राज्य में सक्रिय सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और उनके कार्यकर्ताओं ने अपनी अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है।

- Advertisement -RLP की पंचायत चुनाव में यह है खास रणनीति, BJP-Congress को होगी दिक्कत 3

राजस्थान के लोकसभा विधानसभा जिला परिषद, पंचायत समिति और सरपंच समेत सभी तरह के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस 12 मोस्ट प्रतियोगी रहते हैं, किंतु इस बार पंचायती राज चुनाव में इन दोनों दलों को हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से कड़ा मुकाबला करना होगा।

करीब 1 साल पहले ही जिस राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी का हनुमान बेनीवाल के द्वारा गठन किया गया था, उसकी प्रदेश में कार्यकारिणी का सोमवार को ऐलान किया गया है।

हनुमान बेनीवाल के द्वारा खास रणनीति के तहत पार्टी के मुखिया बनाए गए दलित समाज से आने वाले विधायक पुखराज गर्ग समेत प्रवक्ताओं, महामंत्रियों, मंत्रियों, उपाध्यक्ष और कार्यकारिणी सदस्यों का चयन खासतौर से युद्ध को लेकर किया गया है।

इसके साथ ही राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी नहीं यह भी ऐलान किया है कि पंचायती राज चुनाव में उसके द्वारा पूरे राजस्थान में उम्मीदवार मैदान में उतारे जाएंगे। हालांकि साथ ही यह भी कहा कि गठबंधन के द्वार उनके हमेशा के लिए खुले हैं।

राजनीति के जानकारों का कहना है कि हनुमान बेनीवाल ने बहुत ही सोच समझकर पूरे राजस्थान में पंचायती राज चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। इसके साथ ही बीजेपी को गठबंधन के लिए आमंत्रित करने के लिए उन्होंने गठबंधन के विकल्प भी खुले रखे हैं।

इससे पहले निकाय चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के बीच सहमति नहीं बनी थी बीजेपी ने कहा था कि शहरों में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी का अस्तित्व नहीं है, इसलिए गठन करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। नतीजा यह हुआ कि नागौर की सीट राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल के खाते में गई, जबकि प्रदेश के अन्य सभी 24 सीटें बीजेपी के खाते में गई।

निकाय चुनाव में शहरों में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी का कोई वजूद नहीं होने की बात कहकर गठबंधन नहीं करने वाली भारतीय जनता पार्टी अब पंचायत चुनाव में रालोपा के संग गठबंधन कर सकती है।

इसी को ध्यान में रखते हुए हनुमान बेनीवाल ने अपने दल के लिए उन जिलों का चयन कर लिया है, जहां पर उनका खासा दबदबा है।

चर्चा है कि भारतीय जनता पार्टी को हनुमान बेनीवाल के द्वारा बनाई गई खास रणनीति का अंदाजा है, इसी को देखते हुए बीजेपी जल्द ही राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के साथ गठबंधन पर सहमत हो सकती है।

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी और हनुमान बेनीवाल का नागौर, चूरु, सीकर, अजमेर, जोधपुर, बीकानेर, बाड़मेर और जैसलमेर के साथ ही राजसमंद जिले में भी अच्छा खासा प्रभाव है, जिसको देखते हुए वह बीजेपी के साथ इन जिलों की सभी सीटें खुद के लिए छोड़ने का समझौता कर सकते हैं।

हालांकि दोनों दलों के बीच अभी तक गठबंधन को लेकर कोई वार्ता नहीं हुई है किंतु दोनों ही पार्टियां अपने-अपने स्तर पर समझौता मसौदा तैयार करने में जुटी हुई है।

सूत्रों के अनुसार भाजपा ने अपनी कोर कमेटी के माध्यम से काम करवाए जाने की कवायद शुरू कर दी है, तो इधर हनुमान बेनीवाल की पार्टी ने भी अपने पदाधिकारियों की एक समिति बनाकर इस पर मंथन करना प्रारंभ कर दिया है।

माना जा रहा है कि निर्वाचन आयोग द्वारा पंचायती राज चुनावों का ऐलान करने के साथ ही दोनों दलों के बीच गठबंधन को लेकर जल्द ही कोई फैसला लिया जा सकता है।

अगर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच पंचायती राज चुनाव को लेकर गठबंधन होता है तो यह है कांग्रेस के लिए बड़ी दिक्कतें करने वाला साबित हो सकता है। क्योंकि दोनों दलों ने दो चुनाव साथ मिलकर लड़ा है, और दोनों में ही अभूतपूर्व सफलता हासिल की है।

आपको बता दें कि 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले हनुमान बेनीवाल किसी भी सूरत में अपने गठबंधन के साथ ही भाजपा को रियायत देने के मूड में नहीं है, तो कांग्रेस मुक्त राजस्थान का नारा लगाकर वह अपने इरादे स्पष्ट कर चुके हैं।

बेनीवाल को नजदीक से जानने वाले लोगों का कहना है कि वह एक और जहां सार्वजनिक रूप से काफी मुखर और आक्रामक रणनीति को अपनाते हैं, तो वहीं अपने छोटे भाई और खींवसर के विधायक नारायण बेनीवाल के साथ मिलकर कागजी रणनीति बनाने में भी खास है माहिर हो गए हैं।

हनुमान बेनीवाल ने हालांकि अपनी पूरी प्रदेश कार्यकारिणी में युवाओं को तवज्जो दी है, किंतु देखने वाली बात यह होगी कि बेनीवाल के द्वारा जो चुनावी बंदूक युवाओं के कंधे पर रखी गई है, वह सटीक निशाना लगा पाती है या कांग्रेस और भाजपा की रणनीति के सामने पस्त हो जाती है।

- Advertisement -
RLP की पंचायत चुनाव में यह है खास रणनीति, BJP-Congress को होगी दिक्कत 4
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

किसान आंदोलन नहीं, चीन की फंडिंग पर शाहीन बाग फिर से शुरू हो रहा है!

नई दिल्ली। करीब 2 माह पहले केंद्र की सरकार के द्वारा जिन तीन कृषि बिलों को कानून बनाया गया था, उनके खिलाफ पंजाब में...
- Advertisement -

Bangladesh को Coronavirus की 3 करोड़ Vaccine उपलब्ध कराएगा India

-कोरोना (Corona) से मिलकर लड़ेंगे भारत बांग्‍लादेश नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना (Corona) ने विश्व पटल पर अपनी विनाशकारी...

अशोक गहलोत बतायें कि सरकार बचाने के लिए विधायकों को क्या-क्या प्रलोभन दिये: डाॅ. पूनियां

-हर मोर्चे पर विफल साबित हुई गहलोत सरकार अपने बोझ और कर्मों से ही गिरेगी। मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा कोरोना प्रबन्धन, अपराधों पर...

राजस्थान के मंत्रियों के सामने “नो मास्क- नो एंट्री” मात्र एक स्लोगन

-भाजपा मुख्य प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने सरकार से कोविड-19 में लापरवाही से हो रही मौतों पर अंकुश लगाने की मांग

Related news

Video: 10-10 करोड़ में बिके BTP के विधायक, गहलोत के खास विधायक ने लगाये आरोप

Jaipur. जुलाई और अगस्त के महीने में जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच राजनीतिक युद्ध शुरू...

विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक?

रामगोपाल जाट केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (pm narendra modi govt) द्वारा दो माह पहले संसद में पारित किए...

10 साल के छात्र को ट्यूटर दिखा रहा था पोर्न वीडियो, गिरफ्तार

कानपुर, 12 अगस्त (आईएएनएस)। दस साल के एक छात्र को अश्लील वीडियो दिखाने वाले एक निजी ट्यूटर को कानपुर पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार...

Bangladesh को Coronavirus की 3 करोड़ Vaccine उपलब्ध कराएगा India

-कोरोना (Corona) से मिलकर लड़ेंगे भारत बांग्‍लादेश नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना (Corona) ने विश्व पटल पर अपनी विनाशकारी...
- Advertisement -