अश्लील फिल्म देखकर 13 साल के भाई व 15 साल की बहन ने बनाये शरीरिक सम्बन्ध, लड़की 6 माह की गर्भवती हुई

अलवर। टेलीविजन और मोबाइल पर अश्लील फिल्मों का बुरा असर समाज के ऊपर तेजी से बढ़ता जा रहा है। अलवर के भिवाड़ी में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें 13 साल के भाई ने 15 साल की अपनी सगी बहन को 6 महीने की गर्भवती कर दिया। परिवार को जब इस बारे में जानकारी मिली तो बच्चा खराब हो गया, उसका गर्भपात कराया गया।

वैसे तो मामला दिसंबर 2020 का है लेकिन महाराष्ट्र के वर्धा जिले की थाना सेवाग्राम से भिवाड़ी पुलिस को जीरो f.i.r. भेजी गई है, जिसमें इस प्रकरण का खुलासा किया गया है। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र के वर्धा जिले के सेवाग्राम इलाके से रहने वाला एक परिवार भिवाड़ी में रहकर मजदूरी करता है।

पिछले साल जब लॉकडाउन लगा था तब परिवार जहां मजदूरी के लिए तरस रहा था, उसी वक्त मोबाइल पर अश्लील फिल्में देखकर 15 साल की बहन और उसके छोटे भाई 13 साल के लड़के ने शारीरिक संबंध बनाए। परिणाम यह हुआ कि दिसंबर में लड़की 6 महीने की गर्भवती हो गई।

भिवाड़ी थानाधिकारी रामशंकर ने बताया कि लड़की नवी कक्षा में पढ़ती है और लड़का सातवीं कक्षा में पढ़ता है जब लड़की का पेट फूलने लगा, तब उसकी दादी को शंका हुई उसने बेटे को अपनी पोती को डॉक्टर को दिखाने को कहा। जब डॉक्टर को दिखाया गया, तब परिवार के होश उड़ गए, पता चला लड़की 6 महीने की गर्भवती है।

इसके बाद बच्चा खराब होने की वजह से उसका गर्भपात करा दिया गया, किंतु उससे पहले तुरंत प्रभाव से परिवार अपने गांव सेवाग्राम पहुंच गया, जहां लड़की का पूरा ट्रीटमेंट करवाया गया। इस बात का खुलासा यहां पर तब हुआ, जब सेवाग्राम पुलिस के द्वारा भिवाड़ी पुलिस को जीरो f.i.r. भेजी गई है।

यह भी पढ़ें :  दिल्ली में आग: 43 लोगों की जलकर मौत, 11 जनों को बचाया

सेवाग्राम पुलिस के द्वारा जब बच्चों से इस बारे में पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि वास्तव में उनको यह भी पता नहीं है कि उन्होंने कितनी बार शारीरिक संबंध बनाए हैं। हालांकि, गंभीर बात यह है कि परिवार जनों को इसके बारे में जानकारी क्यों नहीं मिली?

साइकेट्रिस्ट का कहना है कि बच्चों के साथ जब भी ट्रीट किया जाए तो बिल्कुल फ्रेंडली व्यवहार होना चाहिए। इसके साथ ही जब भी बच्चे मोबाइल या दूसरे इंटरनेट गेजेट्स यूज करें तो उनके ऊपर पूरी निगरानी रखी जानी चाहिए।

साइकैटरिस्ट का यह भी कहना है कि लॉकडाउन के दौरान क्योंकि इंटरनेट का बहुत ज्यादा यूज हुआ है और बच्चे स्कूल कॉलेज नहीं जा रहे हैं तो इसके कारण उनका इंटरनेट यूजर्स ज्यादा हो रहा है। परिणाम यह हो रहा है कि इंटरनेट के ऊपर उपलब्ध अश्लील वीडियो देखने की प्रवृत्ति बढ़ी है।

क्योंकि बच्चों में वीडियो देखकर उसी तरह से कार्य करने की आदत होती है। जिज्ञासावश बच्चे ज्यादा से ज्यादा इसी तरह के वीडियो देखे जाते हैं। परिणाम यह होता है कि जब बच्चों के ऊपर परिवारजनों की निगरानी नहीं होती है तो गलत कार्य करने से भी नहीं चूकते हैं।

आपको बता दें कि इसी तरह का मामला पिछले 3 महीने पहले रायसेन नगर में सामने आया था जिसमें 12 साल के बड़े भाई ने अश्लील फिल्म देखते हुए 6 साल की सगी छोटी बहन के साथ बलात्कार कर दिया था।