राजस्थान के मंत्री ने कहा: “हम केंद्र सरकार के सामने भीख का कटोरा लेकर घूम रहे थे”

राम गोपाल जाट
कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी और अपने मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पंचायत स्तर पर क्या कुछ हो रहा है, उसके बारे में मंथन किया।

इस अवसर पर नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि राजस्थान में कोरोना को लेकर प्रबंधन ने पूरी दुनिया में अव्वल रहा है। पूरे देश में वैक्सीन लगाने के मामले में राजस्थान एक नंबर है और केंद्र सरकार ने भी राज्य सरकार की कार्यप्रणाली की सराहना की है।

उन्होंने कहा कि कई राज्यों में नदी में लाशें तैर रही थीं, लेकिन राजस्थान में मैं तो नदी में ने किसी तालाब में लाश थीं, बल्कि राज्य सरकार के द्वारा बेहतर प्रबंधन के कारण कोराना को नियंत्रित किया गया।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में गंगा नदी में लाश इतने की जो बातें आई थीं, उनको लेकर प्रदेश के यूडीएच मंत्री ने केंद्र सरकार उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की है। यूडीएच मंत्री ने कहा कि ऐसे अवसर पर केंद्र सरकार के द्वारा व्याख्यान देने में भी भेदभाव किया गया। केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट तक हम भीख का कटोरा लेकर घूमते रहे।

विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि अगले 2 महीने के भीतर राजस्थान की 70% आबादी को वैक्सीनेशन लग जाना चाहिए। अगर 70% आबादी का टीकाकरण हो जाता है तो तीसरी लहर से लड़ाई आसान होगी।

इस अवसर पर चिकित्सा मंत्री की रघु शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार के द्वारा दिए गए बेहतर प्रयास का नतीजा है कि आज की तारीख में प्रदेश की 25% आबादी का टीकाकरण किया जा चुका है, यदि सरकार हमको 60 लाख एडवांस कोरोना की वैक्सीन दे तो समय पर हम 70% आबादी का टीकाकरण कर देंगे।

यह भी पढ़ें :  वसुंधरा राजे, रीटा चौधरी, मुकेश भाखर, कृष्णा पूनियां जैसे 36 विधायकों का खाता बन्द पड़ा है!

एक्सपर्ट के तौर पर जुड़े अस्थमा रोग विशेषज्ञ और मुख्यमंत्री के सलाहकार डॉ वीरेंद्र सिंह ने कहा कि जिस तरह से मोटरसाइकिल चलाते वक्त हेलमेट की आवश्यकता है, उसी तरह से कोरोनावायरस लड़ाई लड़ने के लिए वैक्सीन सबसे बेहतर उपाय है। यदि 70% आबादी का हम अगले 2 महीने में टीकाकरण कर देंगे, तो तीसरे लहर से आसानी से लड़ाई लड़ी जा सकेगी।