मारपीट पर उतरे अशोक गहलोत के मंत्री गोविंद डोटासरा-शांति धारीवाल

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच की लड़ाई पुरानी हो चुकी है। अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ही बेहद करीबी माने जाने वाले यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल वह पीसीसी अध्यक्ष और शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा एक दूसरे पर मारपीट के लिए उतारू हो गए।

इस घटना का पूरा वीडियो अगर आपको देखना है तो हमारे यूट्यूब चैनल National dunia और फेसबुक पेज National dunia पर जाकर देख सकते हैं।

बात 1 दिन पहले की है जब भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर उनकी अध्यक्षता में कैबिनेट मीटिंग बुलाई गई थी। बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने या उनको करवाने के लिए आयोजित की गई इस बैठक के दौरान ही यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल और शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के बीच भिड़ंत हो गई।

अशोक गहलोत ने कैमरा बंद किया

मुख्यमंत्री कार्यालय सूत्रों का कहना है कि इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपना कैमरा बंद कर लिया, क्योंकि जिस हॉल में मीटिंग हो रही थी वहां पर खुद गहलोत उपस्थित नहीं थे, अपने ही निवास पर होने के बावजूद अशोक गहलोत वर्चुअली माध्यम से जुड़े हुए थे।

हरीश चौधरी खाचरियावास ने रोका

जभी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि फ्री वैक्सीनेशन के लिए राज्य के सभी मंत्रियों और विधायकों को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन भेजना चाहिए तो इस पर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि मंत्रियों का काम ज्ञापन देना नहीं है। इस दौरान दोनों में कहासुनी इतनी ज्यादा हो गई कि हाथापाई पर उतर आए। गनीमत रही राजस्व मंत्री हरीश चौधरी और यातायात मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने दोनों को रोक लिया।

यह भी पढ़ें :  गुर्जरों का दबाव आया काम, गहलोत की बजाए पायलट बन सकते हैं मुख्यमंत्री!

मीटिंग से बाहर आकर फिर भिड़ गए

मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों का कहना है कि मीटिंग से बाहर निकलने के बाद यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल और पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा एक बार फिर से एक दूसरे पर चढ़ गए। गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि अध्यक्ष गए हैं और उनके कहे अनुसार ही संगठन को चलना होगा।

सोनिया गांधी को रिपोर्ट देंगे डोटासरा

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि गोविंद सिंह डोटासरा ने यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल को धमकी देते हुए कहा कि उनका रवैया ठीक नहीं है और इस सारे मामले की रिपोर्ट कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को देंगे।

अक्टूबर 2020 में भी भिड़े थे

ऐसा नहीं है कि गोविंद सिंह डोटासरा और शांति धारीवाल पहली बार आपस में लड़े हो, अक्टूबर 2020 के दौरान नगर निकाय के चुनाव में टिकटों के बंटवारे को लेकर भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सामने उनके सरकारी निवास पर दोनों मंत्री आपस में लड़ पड़े थे।

सियासी गलियारों में चर्चा, गहलोत कैंप में फूट

इधर, सियासी गलियारों में चर्चा चल पड़ी है कि अब तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट लड़ रहे थे, लेकिन अब खुद कांग्रेस के मंत्री ही आपस में लड़ने लगे हैं। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि अशोक गहलोत के द्वारा मंत्रियों को उचित अधिकार नहीं दिए जा रहे हैं, जिससे मंत्री तनाव में हैं।