पढ़िए हेमाराम चौधरी के इस्तीफे पर क्या बोले सचिन पायलट?

जयपुर। बाड़मेर के गुडामालानी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी के इस्तीफे के 3 दिन बाद प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट का बयान सामने आया है।

सचिन पायलट ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के बाहर पत्रकारों से दर्द प्रकट करते हुए कहा कि पश्चिमी राजस्थान में कांग्रेस की रीड की हड्डी माने जाने वाले वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी जो कि 2 बार कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं, नेता प्रतिपक्ष रह चुके हैं और छह बार विधायक हैं, उनका इस तरह से इस्तीफा देना दुर्भाग्यपूर्ण है।

इसके बाद सचिन पायलट ने अपने विधानसभा क्षेत्र टोंक में भी मीडिया से बात करते हुए कहा कि हेमाराम चौधरी जैसे वरिष्ठ विधायक, जिनको दिसंबर 2018 में उन्होंने पीसीसी अध्यक्ष रहते हुए चुनाव लड़ने के लिए राजी किया था और उनकी सरकार से कुछ शिकायतें हैं, जिनकी वजह से वह परेशान होकर इस्तीफा देना पड़ा, यह कांग्रेस के लिए शुभ संकेत नहीं है।

गौरतलब है कि हेमाराम चौधरी के स्थिति को अभी तक विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के द्वारा स्वीकार नहीं किया गया है ना ही स्थिति को रिजेक्ट किया गया है। इस बीच कांग्रेस सूत्रों का दावा है कि सचिन पायलट के कैंप की इस बगावत को रोकने के लिए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सामने आई हैं। उन्होंने सचिन पायलट से बात करके मामले को जल्द सुलझाने का आश्वासन दिया है।

बता दें कि हेमाराम चौधरी के इस्तीफे के बाद कांग्रेस पार्टी ने इस चाकसू से विधायक वेद प्रकाश सोलंकी और दूसरे विधायक मुरारी लाल मीणा के द्वारा भी इस मामले में खेद प्रकट करते हुए कहा गया था कि अगर सरकार में उनके काम नहीं होंगे तो वे भी इस्तीफा दे देंगे।

यह भी पढ़ें :  प्रधान पिंकी चौधरी के भागने और फिर प्रेमी से कोर्ट मैरिज करने की बात को लेकर अब हुआ नया विवाद

आपको याद होगा जुलाई-अगस्त 2020 के दौरान भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच राजनीतिक तौर पर वर्चस्व की लड़ाई शुरू हुई थी, जिसके बाद पूरा प्रकरण 1 महीने तक चला राज्य की सरकार लगातार होटलों में कैद रही और पायलट कैंप मानेसर में रहा था।