20 साल पहले लड़की के चक्कर में पत्नी को मारा, अब बहु के प्यार में बेटे की हत्या की

जैसलमेर। कलयुगी पिता ने अपनी सगी बहु से प्यार किया। इसके बाद अपने बेटे को रास्ते से हटा दिया। मामला पुलिस पड़ताल में तब खुला, जब मृतक की लाश को वापस निकालकर पोस्टमॉर्टम कराया गया।

घटना जैसलमेर जिले की पोकरण तहसील के नाचना थाना क्षेत्र की है। यहां पर मुकेश कुमार और उसकी बहु पारले के बीच अवैध संबंध थे। दोनों ने मिलकर मुकेश कुमार मेघवाल (सरकारी शिक्षक) के बेटे, यानी पारले के पति हीरालाल मेघवाल को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। पूरा वीडियो देखिये-

घटना 25 अप्रैल की है। मृतक हीरालाल मेघवाल के भाई भोमराज मेघवाल द्वारा शक होने पर 6 मई को नाचना थाने में मुकदमा दर्ज करवाया गया। मृतक हीरालाल के भाई ने बताया कि जब उसके भाई के शव को दफनाया जा रहा था, तब उसके शरीर पर जले हुए निशान थे।

शक होने पर उसके भाई ने पोस्टमार्टम कराने की बात कही, लेकिन गांव वालों के सामने वर्तक हीरालाल के पिता मुकेश कुमार मेघवाल ने पोस्टमार्टम करवाने से इनकार कर दिया और जल्दबाजी में उसको दफना दिया गया।

मृतक की पत्नी पारले द्वारा इस बात को स्वीकार किया गया है कि 25 अप्रैल की रात को करीब 11:30 बजे उसने अपने पति को नींबू पानी में नींद की गोलियां पिलाई थी। उसने बताया कि जब उसका पति गहरी नींद में सो गया, तब एक्सटेंशन बॉक्स लेकर उसके दोनों कानों में वायर डाल दिए और बिजली चालू कर दी।

मृतक की पत्नी पारले के द्वारा इस बात को स्वीकार किया गया है कि उसके वह उसके ससुर मुकेश कुमार मेघवाल के बीच अवैध शारीरिक संबंध थे और दोनों के द्वारा पति को रास्ते से हटाने के लिए योजना बनाई गई थी। इसके साथ ही अपने बयान में पारले ने कहा है कि उसका पति शराब पीता था और कमाता नहीं था।

यह भी पढ़ें :  शुरू हुई 26 हज़ार शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया, ऐसे करें जोइनिंग...

मृतक की हीरालाल मेघवाल के भाई भोमराज ने बताया कि पहले उसको मृतक की मृत्यु के ऊपर शक हुआ। जब दूसरे दिन जब गांव वाले एकत्रित हुए थे और उसका पोस्टमार्टम करवाने के लिए कह रहे थे, तब पिता मुकेश कुमार मेघवाल के द्वारा मना कर दिया गया और आनन-फानन में उसको दफना दिया गया, तब उसका शक और गहरा हो गया।

जैसलमेर पुलिस अधीक्षक अजय सिंह के निर्देशन में सीओ हुकमाराम बिश्नोई, नाचना पुलिस थाना अधिकारी रमेश कुमार ढाका व अन्य पुलिस अधिकारियों के द्वारा इस मामले की पड़ताल करके मुख्य आरोपी मृतक की पत्नी पारले और उसके पिता मुकेश कुमार मेघवाल को गिरफ्तार कर लिया गया है।

जानकारी मिली है कि मुख्य आरोपी मुकेश कुमार मेघवाल सरकारी अध्यापक और करीब 20 साल पहले अपनी पत्नी की हत्या कर चुका है, किंतु उस हत्या को मुकेश कुमार मेघवाल के द्वारा आत्महत्या करार दे दिया गया था। इसके बाद मुकेश कुमार मेघवाल ने अपने से काफी कम उम्र की लड़की से शादी की थी।

बताया जा रहा है कि 20 बरस पहले मुकेश कुमार मेघवाल ने जिस लड़की से शादी की थी, उसी के चक्कर में आकर अपनी पहली पत्नी की हत्या की थी, लेकिन तब संसाधन नहीं होने और किसी के जागरूक नहीं होने के कारण मुकेश कुमार की पत्नी की हत्या आत्महत्या बन कर रह गई।