राजस्थान के प्राइवेट अस्पतालों में होगा कोरोना का बिल्कुल फ्री इलाज

जयपुर। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी ने 4 दिन पहले ही प्रदेश भर में सभी अस्पतालों में कोरोना के मरीजों का एकदम फ्री इलाज करने का ऐलान किया। उसके बाद तमिलनाडु के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने भी कहा है कि प्रदेश के सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पताल में कोरोनावायरस ओं का बिल्कुल फ्री इलाज होगा।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी दावा किया है कि प्रदेश के सभी प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना के मरीजों का 1 मई से बिल्कुल फ्री इलाज किया जा रहा है। सरकारी अस्पतालों में पहले से ही मुफ्त इलाज है।

हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके मंत्रिमंडल के किसी भी सदस्य द्वारा यह नहीं कहा गया है कि इस ऐलान के पीछे एक छिपी हुई शर्त है। शर्त यह है कि इस योजना में उन्हीं का इलाज किया जाएगा, जिनका मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना के तहत रजिस्ट्रेशन हो चुका है, बाकी का पैसा लगेगा।

मजेदार बात यह है कि एक तरफ जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना के तहत प्राइवेट अस्पतालों में इलाज का दावा कर रहे हैं अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन दे रहे हैं, तो दूसरी तरफ जमीनी स्तर पर असली नहीं है कि प्राइवेट स्कूलों ने अभी तक भी इस योजना के तहत मुफ्त इलाज शुरू नहीं किया है। इसके चलते मरीजों को काफी दिक्कतें हो रही है।

सवाल यह खड़ा हो रहा है कि एक तरफ जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत केंद्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना को लागू नहीं कर पाए हैं, तो दूसरी तरफ अपनी ही घोषित की गई मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना के तहत प्राइवेट अस्पतालों में इलाज नहीं कर पा रही हैं। ऐसे में कई सवाल खड़े हो गए हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व उनके मंत्रिमंडल के सदस्य इस बारे में जवाब नहीं देते हैं।

यह भी पढ़ें :  सोशल मीडिया पर हिंदू मुस्लिम नफरत के बीच जयपुर से आई अच्छी तस्वीर