80 करोड़ लाभार्थियों को मई-जून में मिलेगा 5 किलो मुफ्त अनाज, 26000 करोड़ का पैकेज जारी

राम गोपाल जाट

देशभर में फैली कोरोनावायरस की दूसरी लहर के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा आज इस बात का ऐलान किया गया है कि मई और जून के महीने में 80 करोड़ लाभार्थी परिवारों को 5 किलो अनाज दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मई और जून में 80 करोड़ लाभार्थियों को 5 किलो मुफ्त खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता के अनुरूप यह योजना इस विकट समय में देश के ज़रूरतमंद को खाद्य सुरक्षा देगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोर देकर कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि जब देश को कोरोना वायरस की दूसरी लहर का सामना करना पड़ रहा है तो देश के ज़रूरतमंदों को पोषण का समर्थन मिलता रहे। भारत सरकार इस पहल पर 26,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च करेगी।

पूनियां ने कहा मोदी सरकार का देश के 80 करोड़ लाभार्थियों को मुफ्त खाद्यान्न देने का ऐतिहासिक फ़ैसला है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश के 80 करोड़ लाभार्थियों को बड़ा संबल देते हुए मुफ्त खाद्यान्न देने की ऐतिहासिक घोषणा करने पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मई और जून में 80 करोड़ लाभार्थियों को 5 किलो मुफ्त खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार एवं अभिनंदन व्यक्त करता हूं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता के अनुरूप यह योजना इस विकट समय में देश के जरूरतमंदों को खाद्य सुरक्षा देगी।

डॉ. पूनियां ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जोर देकर कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि जब देश को कोरोना वायरस की दूसरी लहर का सामना करना पड़ रहा है, तो देश के ज़रूरतमंदों को पोषण का समर्थन मिलता रहे।

यह भी पढ़ें :  स्वतंत्र या परतंत्र भारत, कभी ऐसा नहीं हुआ, जानिए क्यों महत्वपूर्ण हैं 21 दिन का कर्फ्यू?

उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए भारत की मोदी सरकार सरकार इस पहल पर 26,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च करेगी।

डॉ. पूनियां ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत कोरोना के खिलाफ हर मोर्चे पर मजबूती से लड़ाई लड़ रहा है, मुझे पूरा विश्वास है कोरोना हारेगा और भारत की जनता की जीत होगी।

गौरतलब है कि पिछले साल जब कोरोना की वैश्विक महामारी शुरू हुई थी, तभी केंद्र सरकार के द्वारा मार्च के महीने से लेकर नवंबर के महीने तक सभी 80 करोड़ लाभार्थी परिवारों को 5 किलो अनाज दिया गया था। इसके साथ ही 3 महीने तक प्रत्येक परिवार को ₹1500 की सहायता भी दी गई थी।

प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को देश के सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हालातों का जायजा लिया और वैश्विक महामारी की समीक्षा अधिकारी लाइन में जारी की गई है।