राजस्थान में कांग्रेस रूपी संक्रमण ज्यादा दिन का मेहमान नहीं: पूनियां

—प्रदेश भाजपा ने सरकार के खिलाफ जारी किया ब्लैक पेपर
—सरकार की वादाखिलाफी को लेकर एक डॉक्यूमेंट्री भी बनाई
जयपुर।

तीन सीटों पर 17 तारीख को होने वाले उपचुनाव से ठीक पहले भाजपा ने राजस्थान सरकार के खिलाफ ब्लैक पेपर जारी किया है। साथ ही कांग्रेस की वादाखिलाफी को लेकर एक डॉक्यूमेंट्री भी तैयार की गई है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने मंगलवार को भाजपा मुख्यालय पर इस ब्लैक पेपर को जारी करते हुए कहा कि प्रदेश में कांग्रेस रूपी संक्रमण अब भी बरकरार है, मगर यह संक्रमण बहुत ज्यादा दिन का मेहमान नहीं है और राजस्थान में इसकी वापसी की कोई उम्मीद भी नहीं है।

पूनियां ने कहा कि इस सरकार की वादाखिलाफी की एक बड़ी फेहरिस्त है। दुनिया के महान वैज्ञानिक और कांग्रेस के अंतरराष्ट्रीय नेता राहुल गांधी ने 10 तक गिनती गिनकर कहा था कि किसानों का कर्जामाफ हो जाएगा, मगर आज तक कर्जामाफी नहीं हो पाई है।

बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया गया और दो लाख नौकरियों का वादा किया, मगर आज भी कई भर्तियां न्यायालयों में अटकी पड़ी है। जनता ने पंचायती राज चुनाव में सरकार को स्पष्ट कर दिया था कि कांग्रेस को भविष्य में राजस्थान में कोई जगह नहीं मिलेगी।

हमने उप चुनाव की पूरी तैयारियां कर ली है। जनता के पास नकारा सरकार को धक्का देने का अवसर है। यह सरकार अपने बोझ से जरूर गिरेगी और तीनों उप चुनावों में सरकार की दिशा तय होगी।

ना पुजारी सुरक्षित और ना ही सड़क पर चलता आदमी

पूनियां ने कहा कि राजस्थान को शांतिप्रिय प्रदेश बताया जाता है। घूमने, व्यापार करने का सबसे सही स्थान है, मगर इस सरकार में 7 लाख मुकदमें दर्ज हुए है। ना पुजारी, ना सड़क पर पैदल चलने वाला, ना युवतियां और ना पुलिस के सिपाही। इस सरकार में कोई सुरक्षित नहीं है। छबड़ा में बहुसंख्यक समाज की दर्जनों दुकानें जला दी गई। हमारे प्रतिनिधिमंडल को रोक दिया गया। क्या सरकार इन जली हुई दुकानों की भरपाई करेगी।

कांग्रेस नहीं सरकार लड़ रही है चुनाव

पूनियां ने कहा कि तीन उप चुनाव है और हमारे सामने कांग्रेस नहीं बल्कि सरकारी अधिकारी और कर्मचारी चुनाव लड़ रहे हैं। खानमंत्री खनन मालिकों को धमकियां दे रहे हैं। राजसमंद में एनएसयूआई के गुंडों ने सांसद दीया कुमारी को भयभीत करने की कोशिश की। सुजानगढ़ की सभा में वीआईपी गेट से एनएसयूआई के गुंडों को घुसाया गया।

यह भी पढ़ें :  पार्टी से अलग होकर गुलाबचंद कटारिया भी चुनाव लड़े तो जमानत जप्त हो जाएगा: कटारिया

सवाल यह है कि तीन केंद्रीय मंत्रियों के होते हुए ये गुंडे घुसे कैसे ? चुनाव आयोग और सरकार को इसकी शिकायत की है। अब राज्यपाल को गुजारिश करेंगे कि चुनाव को निष्पक्ष तरीके से कराने के लिए अर्धसैनिक बल नियुक्त किए जाएं।

सुजाता मंडल के बयान की भर्त्सना

बंगाल में टीएमसी नेता सुजाता मंडल के दलितों को लेकर दिए गए बयान की पूनियां ने निंदा की और कहा कि दलितों के हितैषी बनने वाले प्रियंका गांधी, राहुल गांधी और अशोक गहलोत का इस मामले को लेकर कोई बयान नहीं आया, यह आश्चर्य पैदा करता है।

बलात्कार पीड़िता को नहीं मिला न्याय

प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री के स्टाफ पर बलात्कार के आरोप पर पूनियां ने कहा कि मंत्री के दरवाजे पर बलात्कार पीड़िता को न्याय नहीं मिल रहा है। कर्मचारी पर आरोप लगे हैं, इसलिए सरकार को संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने डोटासरा के नाथी के बाड़ा के बयान पर कहा कि किसी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष के यह बोल उनके अहकार को दर्शाता है।

कटारिया ने माफी मांग ली है

कटारिया द्वारा महाराणा प्रताप को लेकर दिए गए बयान पर पूनियां ने कहा कि कटारिया ने इसे लेकर वीडियो जारी कर दिया गया है। क्षमा याचना उन्होंने मांग ली है, इसलिए मामले का हमारी तरफ से पटाक्षेप हो गया है।