कांग्रेस के सहाड़ा से गायत्री देवी, राजसमंद से तनसुख बोहरा, सुजानगढ़ से मनोज मेघवाल प्रत्याशी

जयपुर। राजस्थान की 3 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए भाजपा के बाद कांग्रेस पार्टी ने भी आज अपने तीनों प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिए हैं। तीनों सीटों पर 17 अप्रैल को मतदान होगा, 2 मई को मतगणना की जाएगी।

कांग्रेस पार्टी की तरफ से भीलवाड़ा के सहाड़ा सीट पर गायत्री देवी को अपना प्रत्याशी बनाया है, जो कैलाश त्रिवेदी की पत्नी हैं। यहां पर उनका मुकाबला भाजपा के डॉ. रतनलाल जाट से होगा।

इसी तरह से राजसमंद जिले की राजसमंद सीट पर कांग्रेस पार्टी ने तनसुख बोहरा को अपना प्रत्याशी बनाया है। यहां पर भाजपा के द्वारा दिवंगत विधायक किरण माहेश्वरी की बेटी दीप्ति माहेश्वरी को उम्मीदवार बनाया है।

चुरू जिले के सुजानगढ़ सीट पर दिवंगत विधायक और वर्तमान सरकार में मंत्री रहे मास्टर भंवर लाल मेघवाल के बेटे मनोज कुमार मेघवाल को टिकट दिया गया है। कांग्रेस पार्टी के मनोज कुमार मेघवाल का मुकाबला यहां पर भाजपा के खेमाराम मेघवाल से होगा।

दोनों ही प्रमुख दलों के द्वारा अपने प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया गया है। अब हनुमान बेनीवाल की पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के द्वारा आज देर शाम तक अपने तीनों प्रत्याशियों के नामों की घोषणा करने की संभावना है।

राजसमंद की सीट पर भाजपा और कांग्रेस के बीच रोचक मुकाबला होने की उम्मीद है, खासतौर से जब निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर अजमेर जिला प्रमुख सुशीला कंवर पलाड़ा के पति और भाजपा के पूर्व नेता भंवरसिंह पलाड़ा के द्वारा नामांकन पत्र दाखिल किया जाता है तो।

कांग्रेस पार्टी के द्वारा सुजानगढ़ की सीट पर मास्टर भंवर लाल मेघवाल के बेटे मनोज कुमार मेघवाल को मैदान में उतारकर स्पष्ट तौर पर संकेत दे दिए हैं कि मास्टर और लाल मेघवाल के निधन के बाद यहां पर मतदाताओं की संवेदनाओं के सहारे जीत हासिल करने का प्रयास शुरू किया गया है।

यह भी पढ़ें :  भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लिखा पत्र, क्या है लेटर में?

भाजपा के द्वारा भी राजसमंद की सीट पर दिवंगत विधायक किरण माहेश्वरी की बेटी दीप्ति माहेश्वरी को टिकट देकर मतदाताओं की भावनाओं के सहारे जीत दर्ज करने की कोशिश की जा रही है।

भीलवाड़ा के सहाड़ा सीट पर कांग्रेस पार्टी के द्वारा दिवंगत विधायक कैलाश त्रिवेदी की पत्नी गायत्री देवी को टिकट देकर यहां पर भी भावनाओं से खेलने का प्रयास किया गया है। भाजपा ने यहां पर दिसंबर 2018 में हारे हुए प्रत्याशी को दोबारा मैदान में उतारा है।