प्रिंसिपल पदोन्नति विवाद: जल्द खत्म करे सरकार

जयपुर।

राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद प्रधानाचार्य (रेसापी) के मुख्य संरक्षक प्रमोद मिश्रा का कहना है वर्तमान में प्रदेश के 54000 प्राध्यापक व कुछ माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक आंदोलनरत है।

दोनों ही वर्ग शिक्षा सेवा नियम 1970 के अनुसार समान संवर्ग में है तथा न्यायालयों में दायर विभिन्न वाद में भी न्यायालय ने इनको समकक्ष माना है।

अतः सरकार को दोनों वर्गों के लिए प्रधानाचार्य पदोन्नति के लिए संख्यात्मक अनुपात लागू कर या केंद्र के तरह प्रदेश में समस्त माध्यमिक विद्यालयों को समाप्त कर केवल उच्च प्राथमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालय संचालित करके प्रधानाध्यापक (मा.वि.) पद समाप्त कर इस विवाद को जल्दी ही समाप्त करना चाहिए, ताकि आने वाली बोर्ड परीक्षा के लिए प्रदेश में शैक्षणिक माहौल बन सके।

यह भी पढ़ें :  बेरोजागारों का कल सरकार में पहला प्रदर्शन-