सुबह दिखाई हरी झंडी दोपहर में दबोचे गए JCTSL के MD IAS वर्मा

जयपुर। जेसीटीएसएल (Jaipur city transport services limited) के एमडी IAS वीरेंद्र वर्मा को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) ने शनिवार को रंगे हाथों दबोच लिया। मैनेजिंग डायरेक्टर वर्मा को 4 लाख की रिश्वत लेते पकड़ा।

एन्टी करप्शन ब्यूरो (ACB) के DG बीएल सोनी (IAS BL SONI) और ADG दिनेश एमएन (IAS DINESH MN) के निर्देश पर ASP बजरंग सिंह शेखावत ने यह कार्रवाई की।

एमडी वर्मा को 4 लाख रुपये की रिश्वत देते दिल्ली के ठेकेदारों को भी दबोचा गया है। एंटी करप्शन ब्यूरो से प्राप्त जानकारी के अनुसार JCTSL की नई बसों की कंपनी के प्रबंधक नरेश सिंघल और जेसीटीएसएल डबल AO महेश गोयल को भी ट्रैप किया गया है।

सुबह मंत्री के साथ हरी झंडी दिखाई थी, दिन में पकड़े गए

ACB के द्वारा जानकारी में बताया जा रहा है कि शनिवार को सुबह ही नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल के सरकारी निवास से JCTSL की मिडी बसों को हरी झंडी दिखाई गई थी, उस वक्त जेसीटीएसएल एमडी वीरेंद्र वर्मा भी मौजूद थे, उनके साथ विभाग के तमाम आला अधिकारी भी मौजूद

घाटे से जूझकर दम तोड़ती बस सेवा

अब बता दें कि जेसीटीएसएल सेवा लगातार घाटे से जूझ रही है। राज्य सरकार के द्वारा इसको अनुदान कम दिया जा रहा है, जिसके चलते कई बार जेसीटीएसएल के चालकों और परिचालकों के द्वारा समय पर वेतन नहीं मिलने के कारण आंदोलन भी किया जाता है।

इलेक्ट्रिक बसों को चलाने का दावा फिलहाल अधर में

खास बात यह है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार का गठन होने के बाद से ही लगातार 2 साल से यातायात मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास के द्वारा जेसीटीएसएल के बेड़े में इलेक्ट्रिक बस इन शामिल करने का दावा किया जाता रहा है, किंतु अभी तक भी पुरानी डीजल की खटारा बसें ही शहर में दौड़ रही है और भयानक प्रदूषण फैला रही हैं।

यह भी पढ़ें :  राजेन्द्र राठौड़ ने कहा: वसुंधरा की यात्रा में नहीं जाएंगे, मोक्ष के समय निकाली जाती हैं धार्मिक यात्राएं: कल्ला