पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की जगह अध्यक्ष सतीश पूनियां ने ले ली

-7 मार्च को पूर्व सीएम वसुंधरा राजे जब गिरीराज महाराज के मंदिर में अनुष्ठान करेंगी, तब भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया त्रिपुरा सुंदरी के मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के सख्त संदेश के बाद वसुंधरा राजे की धार्मिक यात्रा टली। पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी तो गिरीराज महाराज भी नहीं जाएंगे।

जयपुर। लगता है पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की जगह पार्टी के राजस्थान इकाई अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ले ली है। शायद यही कारण है कि अपने जन्मदिन पर जहां वसुंधरा राजे हमेशा पूजा-अर्चना करती थीं, वहां पर इस बार सतीश पूनिया करेंगे।

इसे राजनीतिक संयोग ही कहा जाएगा कि 7 मार्च को भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे जब भरतपुर जिले में गिरीराज के मंदिर में अनुष्ठान करेंगी, तभी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया बांसवाड़ा जिले में स्थित त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना करेंगे।

पूर्व में वसुंधरा राजे भी त्रिपुरा सुंदरी के मंदिर में ही अनुष्ठान करती थीं, लेकिन इस बार अपने जन्मदिन 8 मार्च के अवसर पर राजे ने भरतपुर के गिरीराज महाराज के मंदिर का चयन किया है।

तय कार्यक्रम के अनुसार राजे 7 मार्च को सुबह जयपुर से सड़क मार्ग से भरतपुर पहुंचेंगी। दिनभर गिरीराज के मंदिर में पूजा पाठ अभिषेक अनुष्ठान करने के बाद रात्रि विश्राम भी आदिबद्री में ही करेंगी।

8 मार्च को धौलपुर के राज निवास में विश्राम करेंगी। राजे के निजी सहायक फूलसिंह पाल ने अधिकृत प्रोग्राम जारी कर दिया है। राजे अब भरतपुर के मंदिरों में ही दर्शन करेंगी। हालांकि, जन्मदिन पर धार्मिक यात्रा निकालने की राजनीतिक चर्चाएं थीं।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट के साथ ही 3 विधायकों ने इस्तीफे की धमकी दी है

इसको लेकर राजे समर्थक सक्रिय भी हो गए थे, लेकिन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के दो मार्च के जयुपर दौरे के बाद धार्मिक यात्रा निकालने का कार्यक्रम रद्द हो गया। फिलहाल यही जानकारी मिल रही है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार नड्डा ने जयपुर यात्रा में उन नेताओं को सख्त संदेश दिया, जिनकी गतिविधियों से भाजपा में असंतोष नजर आ रहा था। इस संदेश के बाद ही वसुंधरा राजे की धार्मिक यात्रा भरतपुर के मंदिरों तक ही सीमित हो गई है।

हो सकता है कि जन्मदिन की बधाई देने के बहाने राजे समर्थक नेता और विधायक 7 व 8 मार्च को भरतपुर में जमा हों, लेकिन पूर्व मंत्री और भाजपा के अजमेर से कद्दावर नेता वासुदेव देवनानी ने राजे के जन्मदिन पर भरतपुर जाने से इंकार कर दिया है।

देवनानी ने कहा कि उनके प्रोग्राम पहले से ही तय हैं, इसलिए वे अपने कार्यक्रमों में व्यस्त रहेंगे। अलबत्ता देवनानी ने राजे को जन्मदिन की शुभकामनाएं प्रेषित की हैं। देवनानी अजमेर उत्तर से लगातार चौथी बार भाजपा के विधायक चुने गए हैं।

पूनिया का दौर 6 मार्च को ही शुरू
पूर्व सीएम राजे अपने जन्मदिन के उपलक्ष में 7 और 8 मार्च को मंदिरों में दर्शन करेंगी, लेकिन 8 मार्च को ही भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का तीन जिलों का दौरा 6 मार्च को ही शुरू हो जाएगा।

कार्यक्रम के अनुसार पूनिया 6 मार्च को सुबह जयपुर से उदयपुर के लिए रवाना होंगे। उदयपुर के कार्यकर्ताओं से मुलाकात के बाद 7 और 8 मार्च को पूनिया बांसवाड़ा व प्रतापगढ़ के दौरे पर रहेंगे। पूनिया रात्रि विश्राम भी उन्हीं जिलों में करेंगे।

यह भी पढ़ें :  गहलोत का अध्यक्ष बनना तय, मुख्यमंत्री पर फैसला अब

चूंकि पूनिया ने 7 मार्च को त्रिपुरासुंदरी के मंदिर में पूजा अर्चना करने की इच्छा जताई है, इसलिए बांसवाड़ा के भाजपा कार्यकर्ता और जनप्रतिनिधि पूजा-अर्चना की तैयारियों में जुट गए हैं। मंदिर की परंपरा के अनुसार पूनिया भी देवी त्रिपुरा के चरणों में बैठ कर पूजा-अर्चना करेंगे। पूनिया का कोई दो घंटे तक मंदिर परिसर में रुकने का प्रोग्राम है।

गहलोत और राजे ने लगवाया टीका
पांच मार्च को प्रदेश के सीएम अशोक गहलोत और पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने जयपुर के एसएमएस अस्पताल में पहुँचकर कोरोना का टीका लगवाया। टीका लगवाने के लिए पहले सीएम गहलोत पहुंचे और फिर वसुंधरा राजे।

दोनों ही मौकों पर प्रदेश के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा उपस्थित रहे। इस अवसर पर राजे के साथ उनके सांसद पुत्र दुष्यंत सिंह भी थे। गहलोत और राजे ने आम लोगों से भी कोरोना का टीका लगवाने की अपील की है।