भाजपा-कांग्रेस मिलकर वसुंधरा का बंगला खाली नहीं होने दे रहीं!

जयपुर। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को सिविल लाइन स्थित जो बंगला नंबर 13 राज्य सरकार के द्वारा अलॉट किया हुआ है, उसको खाली कराने के मामले को लेकर भले ही सुप्रीम कोर्ट तक प्रकरण चला गया, किंतु राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस और विपक्षी पार्टी भाजपा दोनों मिलकर वसुंधरा राजे का बंगला बचाने का काम कर रही हैं।

भाजपा मुख्यालय में पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और चोमू विधानसभा क्षेत्र से विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि आगामी दिनों के अंदर भारतीय जनता पार्टी की तरफ से पूरे प्रदेश के अंदर राजस्थान सरकार जिन मुद्दों के आधार पर जिन वादों के आधार पर सत्ता में आई थी, प्रदेश के मुखिया और सदन के नेता अशोक गहलोत जी ने तीसरा बजट भी पेश कर दिया, लेकिन उसके उपरांत भी उन वादों को पूरा नहीं किया गया।

जिन बातों के आधार पर सरकार सत्ता में आई थी और एक तरीके से सीधा-सीधा राजस्थान की सरकार जन भावनाओं की उपेक्षा करने का काम कर रही है। प्रदेश के जो हालात है वो किसी से छिपे नहीं हैं। पूरे देश के अंदर क्राइम के क्षेत्र में राजस्थान ने प्रथम स्थान का खिताब जीतने का श्रेय हासिल किया है।

प्रदेश के अंदर किस तरीके से बजरी माफिया हावी है, प्रशासनिक अधिकारियों के ऊपर हमले कर रहे हैं, किस तरीके से गैंगवार और बलात्कार की घटनाएं घटित हो रही हैं, यह भी किसी से छिपी नहीं है।

कर्जमाफी का आज भी प्रदेश के लाखों किसान इंतजार कर रहे हैं, जो डिफाल्टर हो गए थे, किसान उनको भी दुबारा ऋण देने का काम सरकार नहीं कर रही है, इन तमाम मुद्दों को लेकर और विकास का पहिया भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल के दौरान शुरू हुआ था, विकास का पहिया भी अवरुद्ध हो चुका है।

भारतीय जनता पार्टी की जब सरकारी योजनाएं शुरू की थी, उनमें से 80% तक कटौती करके सिर्फ नाम मात्र की योजनाएं रखने का काम सरकार ने किया। इन तमाम विषयों को लेकर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता 6 तारीख से लेकर 14 तारीख तक प्रदेश के उपखंड स्तर पर धरने के माध्यम से, विज्ञापन के माध्यम से, प्रदर्शन के माध्यम से, अपना विरोध दर्ज कराने का काम करेंगे और हमारी प्रतिपक्ष की जो भूमिका है, उस भूमिका को भी निभाने का काम करेंगे।

यह भी पढ़ें :  सदन से दूर वसुंधरा, खेमा कर रहा है यात्रा की तैयारी!

इसी तरीके से चरणबद्ध तरीके से हमारे कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाई है, 5 तारीख और 6 तारीख को पूरे प्रदेश के अंदर की होगी, 8 तारीख को मंडल के प्रदेश के अंदर होगी, 9 तारीख से लेकर 14 तारीख तक हमारा सड़क का आंदोलन शुरू होगा और इसके मध्य 7 तारीख को हमारे तमाम प्रदेश के नेता समय सीमा के अंदर बंद है।

प्रदेश के मुखिया डॉ सतीश पूनिया फेसबुक लाइव के माध्यम से प्रातः 9:00 बजे 7 तारीख को इन तमाम मुद्दों के ऊपर अपने विचार रखेंगे। उसके बाद में 10:00 बजे से लेकर 11:00 बजे तक प्रदेश के तमाम सांसद और जिला प्रमुख 10:00 बजे से 11:00 बजे तक लाइव रहेंगे।

11:00 बजे से 12:00 बजे तक प्रदेश के, एमएलए, सांसद, मेयर, सभापति फेसबुक लाइव होंगे। इस तरीके से भाजपा प्रत्येक कार्यकर्ता भी फेसबुक के माध्यम से सरकार जनहित के मुद्दों पर सरकार को घेरने का काम करेंगे और आने वाले समय के अंदर भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता अपनी भूमिका को बखूबी निभाने का काम करेगा और 6 तारीख से लेकर 14 तारीख तक कोविड की एडवाइजरी के तहत उठाने का काम किया था और उसके बाद में अभी सिर्फ उपखंड स्तर के ऊपर हमारे धरने, प्रदर्शन, ज्ञापन देंगे।

उसके बाद में प्रदेश स्तरीय एक बड़ा कार्यक्रम में प्रदेश के शीर्ष नेतृत्व के साथ बैठकर के वह भी हम बड़ा कार्यक्रम भी करेंगे। एक सवाल के जवाब में शर्मा ने कहा है कि सोशल मीडिया के माध्यम से भी क्योंकि सोशल मीडिया का प्लेटफार्म भी एक बहुत बड़ा लोगों की पहुंच में है, जिसपर सरकार की उन तमाम नाकामियों को आम जनता तक पहुंचाने का काम करेंगे।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश की बहन-बेटियों को सुरक्षा देने में मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री अशोक गहलोत पूरी तरह विफल

इसके तहत 6 तारीख से लेकर 14 तारीख के मध्य अगर हमारे कार्यक्रमों का विभाजन ने संगठनात्मक रूप से होगी। उसके बाद में 9 तारीख से लेकर 14 तारीख के बड़े प्रदर्शन की तैयारी भी हमको करनी है, तो हमारी विपक्ष की भूमिका निभाने की पूरी तैयारी कर ली है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अब से पहले भी जो भी जनहित के मुद्दे उठती रही है, चाहे किसान कर्जमाफी के मामला हो, चाहे क्राइम का मामला हो, चाहे महिला उत्पीड़न के मामले हो, चाहे बिजली के बिलों के अंदर वीसीआर के जरिये लाखों रुपए की ठगने के मामले हो, इन तमाम मुद्दों को लेकर भारतीय जनता पार्टी का जन जागरण अभियान भी शुरू हुआ था और प्रशासनिक तंत्र के माध्यम से उपखंड स्तर के ऊपर और मंडल स्तर के ऊपर भी तो काम करने का काम किया था और अधिकारियों को ज्ञापन देने का काम भी किया था।

वसुंधरा राजे से बंगला नम्बर 13 खाली नहीं करवाने के सवाल पर शर्मा ने कहा कि संयम लोढ़ा की बात अगर मैं करूं तो मर्यादा के अंदर जिस तरीके का कृत्य करते हैं, विधानसभा में बोलते कुछ हैं और बोलने के उपरांत इसे कहते हैं कि मैं इंडिपेंडेंट विधायक की भूमिका में हूं, लेकिन आपने देखा होगा कि को इंडिपेंडेंट चुनाव जरूर जीत गए हैं, लेकिन सत्तापक्ष की भूमिका केंद्रीय नजर आते हैं तो सरकार अगर सत्ता पक्ष के विधायक के नाते अगर वह कुछ बात कह रहे हैं तो सरकार उसको गंभीरता से लेना चाहिए।

जयपुर में अनेक संगठनों के धरने को लेकर पूछे गए सवाल पर शर्मा ने कहा कि प्रदेश के तमाम संविदाकर्मियों की मांगों या तमाम ऐसे विभागों के कर्मचारी, अधिकारी, जिनके साथ सरकार ने चुनावी वादों के साथ पूरा आश्वासन इस बात का दिया था कि हम सत्ता में आने के बाद आपकी समस्याओं को समाधान भी करेंगे और आज भी भारतीय जनता पार्टी के तमाम विधायक जो भी आंदोलनकारी हैं, उन आंदोलनकारियों की मांगों के साथ खड़े हैं और हमने तो सरकार भी यह कहा है कि आप इनके साथ वादे करके आए थे, बड़े-बड़े वादे किए थे, संविदाकर्मियों को नियमित करने के बात आपने गई थी।

यह भी पढ़ें :  पूनियां-वसुंधरा की पीएम मोदी से मुलाकात के दौरान ये बातें हुईं थीं!

राजस्थान रोडवेज के कर्मचारियों के सेवानिवृत्ति के बाद में उनको आज दिन तक पेंशन के नहीं दी है, उनकी बात हुई थी उन तमाम बातों को सरकार के सामने अपना धर्म निभाने का काम सरकार करें। अपने वादे पूरे करने का काम आप कर रहे हो, चुनाव के दौरान और जिस तरीके से पिछले बजट के अंदर जो घोषणा अपने महाविद्यालय खोलने की प्रदेश में की थी, एक पैसे का बजट आवंटन किया नहीं किया, एक व्याख्याता की भर्ती नहीं की, किसी लेक्चरर की भर्ती निकाली नहीं, सिर्फ एक कॉलेजों की घोषणा करने पर आपने हैज़ उनके लिए बजट एलॉटमेंट और उसके लिए शिक्षकों की भर्ती करें।

हनुमान बेनीवाल के द्वारा भाजपा के ऊपर सवाल खड़े किए जाने का प्रश्न पूछे जाने पर शर्मा ने कहा कि आरएलपी भारतीय जनता पार्टी का सहयोगी दल था और राजस्थान के अंदर हनुमान बेनीवाल का किस तरीके का व्यवहार है, उसके बारे में मुझे बयां करने की आवश्यकता नहीं है, मेरा तो उनको व्यक्तिगत रूप से यही सलाह है कि वह अपने दल की चिंता करें, भारतीय जनता पार्टी की चिंता नहीं करें।

वसुंधरा राजे का बंगला नंबर 13 खाली कराने या नहीं कराने के भारतीय जनता पार्टी के स्टैंड के बारे में पूछे जाने पर शर्मा ने कहा कि जो कुछ संवैधानिक प्रक्रिया है, संवैधानिक प्रक्रिया के अंदर भारतीय जनता पार्टी का पूर्ण विश्वास है और उसे संवैधानिक प्रक्रिया के अंदर जो सही है, वह सही है और जो सरकार को निर्णय करना है, वह सरकार निर्णय करें।