सचिन पायलट को वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री नहीं बनने दे रही हैं: हनुमान बेनीवाल

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा है कि उनकी पार्टी आगामी दिनों में होने वाले सहाड़ा, राजसमंद, वल्लभनगर और सुजानगढ़ की सीटों पर उपचुनाव में अपने प्रत्याशी उतारेगी।

हनुमान बेनीवाल ने जयपुर स्थित जालूपुरा के अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों के साथ बात करते हुए कहा कि राजस्थान में टोल मुक्त राजस्थान, किसानों की संपूर्ण कर्जमाफी, किसानों की बिजली बिलों को फ्री करने, अपराध मुक्त राजस्थान जैसे मुद्दों को लेकर पार्टी पूरे दमखम के साथ उपचुनाव में अपनी ताल ठोकेगी।

वसुंधरा-गहलोत का गठन तोड़ेगी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी

हनुमान बेनीवाल ने दावा किया कि राजस्थान में अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे की मिलीजुली सरकार है, “एक बार मैं और एक बार तू” के हिसाब से पिछले 22 साल से राजस्थान को लूट रहे हैं। हनुमान बेनीवाल ने इसके साथ ही राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के ऊपर भी हमला किया।

सतीश पूनिया का हुआ अपमान

उन्होंने कहा कि एक दिन पहले ही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जयपुर आए और इस दौरान सबने देखा कि किस तरह से सतीश पूनिया ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को रायता परोसा, इससे सतीश पूनिया का अपमान हुआ, कार्यकर्ताओं को भी पता हो गया कि एक बार फिर से भाजपा 2023 में वसुंधरा राजे को ही मुख्यमंत्री बनाने के मूड में है, सतीश पूनिया को नहीं।

हालांकि, इसके साथ ही हनुमान बेनीवाल ने कहा कि 4 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के दौरान यह साबित हो जाएगा कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी राजस्थान में तीसरी सबसे बड़ी ताकत है और 2023 के चुनाव में भाजपा और कांग्रेस दोनों को ही बुरी तरह से हराने का काम करेंगे।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट की गहलोत से दूरियां और जनता से इतनी नजदीकियां क्यों हैं?

भाजपा में 14 जने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार

हनुमान बेनीवाल ने यह भी दावा किया कि भाजपा के भीतर आज सतीश पूनियां के अलावा भी 13 जने मुख्यमंत्री बनने के सपने देख रहे हैं, जिनमें से आधा दर्जन लोग संसद में उनके साथ बैठते हैं और हर दिन कहते हैं कि प्रधानमंत्री से उनकी बात हो गई है और वही मुख्यमंत्री बनेंगे।

इसके साथ ही हनुमान बेनीवाल ने यह भी दावा किया कि अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे का ऐसा गठजोड़ है कि दिसंबर 2018 के चुनाव के बाद सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनते, लेकिन वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत ने मिलकर उनको मुख्यमंत्री नहीं बनने दिया।

पहले की तरह लाखों लोगों की रैलियां करेंगे

बेनीवाल का कहना है कि 4 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर एक बार फिर से उनकी पार्टी बड़ी-बड़ी रैलियां करेगी और इसके साथ ही दोनों ही दलों को इस चुनाव में मुंह की खानी पड़ेगी।

उन्होंने कहा कि पिछले दिनों हुए जिला परिषद और पंचायत समिति चुनाव के दौरान उनकी पार्टी को 5 लाख से ज्यादा वोट मिले हैं। हनुमान बेनीवाल ने यह भी दावा किया है कि उनकी पार्टी के 3 विधायक हैं और तीनों मिलकर विधानसभा के भीतर जनता के मुद्दों को प्रमुखता से उठाते हैं और राज्य की अशोक गहलोत सरकार को आराम से नहीं बैठने देते हैं।

भाजपा-कांग्रेस दोनों ही मिली हुई हैं

उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों मिलीजुली पार्टियां हैं, यही कारण है कि एक दिन पहले विधायक वासुदेव देवनानी को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के द्वारा एक दिन के लिए निलंबित कर दिया गया और आज भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के द्वारा सदन में सीपी जोशी से माफी मांग ली गई।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट कांग्रेस के टॉप 30 में, अशोक गहलोत कहां पर हैं?

उन्होंने कहा कि भाजपा के कहने पर ही सरकार ने सदन की कार्यवाही एक दिन के लिए स्थगित कर दी, ताकि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का कार्यक्रम आराम से हो सके। इसी तरह से भाजपा ने भी कांग्रेस के साथ गठबंधन करते हुए रणदीप सुरजेवाला के बेटे की शादी के लिए सदन को एक दिन के लिए स्थगित करने में सहमति जता दी।

2023 में दोनों पार्टियों को सत्ता से बेदखल कर देंगे

हनुमान बेनीवाल का यह भी कहना है कि प्रदेश में व्याप्त अराजकता को खत्म करने के लिए राजस्थान में भाजपा और कांग्रेस दोनों को ही सत्ता से बाहर करने और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी को सत्ता में लाने के लिए राज्य की जनता चाहती है, ऐसे में 2023 का चुनाव दोनों ही पार्टियों को सत्ता से बेदखल करने का होगा।

सांसद बेनीवाल ने कहा कि 3 कृषि कानूनों की खिलाफत करते हुए उन्होंने भाजपा के साथ गठबंधन तोड़ लिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किए गए धारा 370, तीन तलाक, राम मंदिर और तमाम दूसरे राष्ट्रीय बड़े मुद्दों को लेकर उन्होंने एनडीए का गठबंधन चुना था, लेकिन तीन कृषि कानूनों को बनाने से पहले एनडीए के घटक दलों से नहीं पूछा गया।

3 महीने से धरने पर बैठी है रालोपा

यही कारण है कि अकाली दल के बाद राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी दूसरी पार्टी थी, जिसमें एनडीए का गठबंधन छोड़ा। इसके साथ ही हनुमान बेनीवाल ने यह भी कहा कि 3 कृषि कानूनों के खिलाफ 3 महीने से ज्यादा समय हो गया है, उनके पार्टी शाहजहांपुर में धरने पर बैठी हुई है और आने वाले दिनों में किसानों के मुद्दों को लेकर प्रदेश में बड़ी बड़ी रैलियां करेगी।

यह भी पढ़ें :  कैलाश चंद मेघवाल पर कार्रवाई को लेकर डॉ. सतीश पूनिया ने कहा: यह तो "फिल्म का ट्रेलर है, पिक्चर अभी बाकी है"

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक हनुमान बेनीवाल का कहना है कि राजस्थान के 4 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव की जल्द ही पार्टी प्रचार-प्रसार का काम भी शुरू करेगी और जैसे ही चुनाव की तारीख का ऐलान होगा, वैसे ही चारों जगह अपने प्रत्याशियों के नामों की घोषणा भी कर देगी।