बजट दिवस: पंचायत समिति मुख्यालयों पर हुआ सरपंचों का धरना

-बार-बार ज्ञापन के बाद नहीं चेती सरकार, सरपंचों ने किया बजट दिवस 24 फरवरी पर धरना प्रदर्शन। पूर्व के 2964 करोड़ अटके हैं, तथा छठे वित्त आयोग गठन नहीं होने से नाराज हैं सरपंच। 5000 करोड़ अतिरिक्त विशेष बजट की मांग।

जयपुर।

राजस्थान में सरपंच संघ द्वारा अनवरत बार -बार ज्ञापन देने के बाद भी सरकार पर कोई असर नहीं हो रहा है। इसको लेकर प्रदेशभर के सरपंचों ने पंचायत समिति मुख्यालयों पर बजट भाषण के दौरान धरना दिया है। सरपंच संघ प्रदेश संरक्षक भंवरलाल जानू ने बताया कि वर्तमान सरकार के द्वारा विगत दो वर्षों में राज्य वित्त आयोग का एक भी रुपया ग्राम पंचायतों को नहीं दिया गया है।

जिससे सरपंच संघ में खासी नाराजगी है। सरपंच संघ प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर गढ़वाल के अनुसार वर्ष 2019 – 20 के 2964.31 करोड रुपए सरकार ने अभी तक जारी नहीं किये है।

छठे वित्त आयोग का गठन नहीं करने से वर्ष 2020 -21 एवं वर्ष 2021-2022 में भी कोई राशि मिलने की संभावना नजर नही आ रही है।

मुख्य महामंत्री शक्तिसिंह ने बताया कि सरपंच संघ की मांग है कि वर्ष 2019- 20 के 2964 करोड रुपए एकमुश्त जारी करें एवं छठे वित्त आयोग का गठन होने तक वित्तीय वर्ष 2021 – 22 के लिए बजट में 5000 करोड़ के विशेष पैकेज का प्रावधान करें ताकि व्यवस्था सुचारू हो सके।

सरपंच प्यारी रावत मण्डावर ने अवगत कराया कि सरपंच संघ प्रदेश नेतृत्व में इन दोनों मांगों पर सरकार के ध्यानाकर्षण के लिए बजट दिवस 24 फरवरी के दिन संपूर्ण राज्य की 352 पंचायत समितियों पर सरपंच गणों द्वारा पंचायत समिति मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन किया गया है।

यह भी पढ़ें :  लोकसभा चुनाव 2019: तीसरा चुनाव, तीसरा दल, भारी पड़ सकती है विपक्षी ताकत