आज भाजपा कोर कमेटी की मीटिंग, कल होगी विधायक दल की बैठक, हंगामा होने के आसार

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खेमे के द्वारा जहां पार्टी अध्यक्ष सतीश पूनिया को पत्र लिखकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ की शिकायत की गई है, उसको लेकर पार्टी में गहमागहमी मची हुई है।

आज कोर कमेटी की अहम बैठक

इस बीच भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश स्तरीय कोर कमेटी की बैठक आज भारतीय जनता पार्टी मुख्यालय में होगी, जिसमें पार्टी के अध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया व नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ समेत पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और तमाम नेताओं के साथ ही प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह भी लेंगे। कोर कमेटी के गठन के बाद यह दूसरी बैठक हो रही है।

4 विधानसभा उपचुनाव महत्वपूर्ण

भाजपा कोर कमेटी की बैठक में सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा आने वाले दिनों में सुजानगढ़, सहाड़ा, वल्लभनगर और राजसमंद सीट पर होने वाले विधानसभा के उपचुनाव हैं, जिसको लेकर पार्टी राज्य सरकार को गिरते हुए विजय हासिल करने के लिए रणनीति बना रही है।

8 मार्च को वसुंधरा राजे का जन्मदिन

वसुंधरा राजे के 8 मार्च को मनाए जाने वाले जन्मदिन को लेकर जहां एक तरफ राज्य के खेमे के द्वारा तमाम तैयारियां की जा रही है तो इसके साथ ही 20 विधायकों के द्वारा सतीश पूनिया को जो पत्र लिखा गया है, उस मामले में भी आज कोर कमेटी की बैठक में काफी कुछ देखने को मिल सकता है।

बजट से पहले बैठक

24 फरवरी को, यानी बुधवार को राजस्थान सरकार का बजट पेश किया जाएगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा सदन में बजट पेश किए जाने से पहले हमेशा की तरह भाजपा की विधायक दल की बैठक होगी। उसमें भी इसी तरह के कुछ मुद्दा उठने की संभावना जताई जा रही है।

यह भी पढ़ें :  Rajasthan: सूबे के मुखिया के करीबी मंत्री ऐसे लगा रहे बट्टा

सतीश पूनियां को फ्री हैंड

इधर, भाजपा की जानकार सूत्रों का कहना है कि वसुंधरा राजे के मामले को लेकर पार्टी अध्यक्ष सतीश पूनिया के द्वारा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह को अलग-अलग मुलाकात कर पूरी रिपोर्ट सौंपी गई है, वहां से सतीश पूनिया को एक बार फिर से फ्री हैंड होकर संगठन को मजबूत करने के लिए हरी झंडी मिल चुकी है।

प्रदेश का रिपोर्ट कार्ड सौंपा

बता दें, प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया पिछले 3 दिन से लगातार दिल्ली में हैं। इस दौरान उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ औपचारिक व अनौपचारिक मुलाकात हुई हैं। इस दौरान प्रदेश के तमाम राजनीतिक गतिविधियों और आने वाले चार उपचुनाव को लेकर भी सतीश पूनिया प्रदेश की वस्तुस्थिति से इन तीनों टॉप 3 रीडर को अवगत करवा चुके हैं।

20 विधायकों को पड़ेगी फटकार

इस बीच 20 विधायकों के द्वारा जो पत्र लिखा गया है, उसको लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है, जिससे जाहिर है कि कोर कमेटी की बैठक और विधायक दल की बैठक में भी इन 20 विधायकों को फटकार पडने की पूरी उम्मीद है।

तिकड़ी ने दी संगठन को मजबूती

पार्टी के लोगों में चर्चा है कि जिस तरह पिछले करीब सवा साल से पार्टी अध्यक्ष सतीश पूनिया और नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया व उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ की तिकड़ी के द्वारा प्रदेश के संगठन को मजबूती प्रदान की गई है। साथ ही राज्य की सरकार की विफलताओं को भी प्रमुखता से उठाया गया है, उससे वसुंधरा राजे खेमे में खलबली मची हुई है।

यह भी पढ़ें :  नेपाल, श्रीलंका में भी भाजपा की बनेगी सरकार, अब दोनों देश सफाई देते फिर रहे हैं

वसुंधरा राजे करना चाहतीं हैं सियासत

पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि सतीश पूनियां, गुलाबचंद कटारिया और राजेंद्र राठौड़ के बीच बने तारतम्य को तोड़ने के लिए वसुंधरा राजे खेमे के विधायकों के द्वारा इस तरह की गतिविधि की जा रही है, जिससे तीनों में दरार पड़ जाए और वसुंधरा राजे को फिर से राजनीति करने का अवसर मिल जाए।