केन्द्र सरकार की बेची हुई रेल को नहीं चलने देंगे किसान-जयन्त मूण्ड

जयपुर। जयपुर के जगतपुरा के बालाजी स्टेडियम में किसान-जवान हुंकार सभा करके केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आज दोपहर 12 बजे से 4 बजे तक रेल को रोककर राजस्थान के युवानेताओं ने अपना विरोध दर्ज कराया।

इस दौरान राजस्थान विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ महासचिव नरेश मीणा, मरुप्रदेश निर्माण मोर्चा के संजय पूनियां, नसीरुद्दीन खान धौलपुर, प्रमोद सैनी उदयपुरवाटी व मरुसेना के जयन्तमूण्ड ने मंच से कहा कि जब तक काले कानून वापस नही होंगे, तब तक किसान व जवान इस आंदोलन को जारी रखेगा। सयुंक्त किसान मोर्चा के रेल रोको आंदोलन का मकशद कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए सरकार पर दबाब बनाना है।

IMG 20210218 WA0009


मरुसेना अध्यक्ष जयन्त मूण्ड ने कहा कि केंद्र सरकार ने जो रेल बेची है उसको पटरियों पर किसान नही चलने देंगे। केंद्र सरकार के विवादित कृषि कानूनों का विरोध तब तक तेज होता रहेगा जब तक कि किसानों की मांगें नहीं मानी जाती।

इन कानूनों के खिलाफ अब गांव गांव में जनता को जागृत करेंगे व राजस्थान से किसानों का बवंडर खड़ा करेंगे जिसके तूफान से 25 सांसदों की सीटे उड़ जाएगी।

IMG 20210218 WA0010

किसान जवान हुंकार सभा के बाद सभी हजारों नोजवान जगतपुरा रेलवे फाटक व स्टेशन पर पटरियां पर बैठकर किसानों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की गई।
बता दें कि किसान लगाातर पिछले करीब 3 महीने से कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार से मांग है कि वो तीनों कानूनों को रद्द करे क्योंकि ये कानून किसान के हित में नहीं हैं।

इसे लेकर सरकार और किसान नेताओं के बीच कई दौर की बातचीत भी हो चुकी है लेकिन सरकार कानूनों को सही बताकर वापस लेने से इनकार कर रही है तो वहीं किसान अड़े हैं कि वो कानून रद्द करवाकर ही घर लौटेंगे।

यह भी पढ़ें :  मोदी को पुनः प्रधानमंत्री बनाने के लिए भाजपा कार्यकर्ता संकल्पबद्ध हो - कर्नल राज्यवर्धन