सदन से दूर वसुंधरा, खेमा कर रहा है यात्रा की तैयारी!

जयपुर। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जहां विधानसभा की कार्यवाही से दूर हैं, तो उनके खेमे के विधायक व पूर्व विधायक राजे की 11 मार्च से प्रस्तावित यात्रा की तैयारी में जुटे हुए हैं।

राजे के खास और राज्य के पूर्व यातायात मंत्री यूनुस खान इन दिनों वसुंधरा राजे के 8 मार्च के जन्मदिन को भव्य रूप में मनाने की तैयारी में लगे हुए हैं तो उसके साथ ही 11 मार्च को कृष्णा सर्किट से शुरू होने वाली यात्रा को लेकर भी रणनीति बनाने में जुटे हैं।

बता दें कि राजे गुट कई दौर की मंथन बैठकें कर चुका है, और जैसा कि छाबड़ा विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने खुलेआम कहा भी है कि राजे उनकी व उनकी पार्टी की सर्वमान्य नेता हैं, चाहे अध्यक्ष, महामंत्री, उपाध्यक्ष कोई भी हों।

साथ ही कुछ और नेता हैं, जिनको राजे के गुट से माना जाता है, जो कभी प्रत्यक्ष तो कभी परोक्ष रूप से पार्टी अध्यक्ष सतीश पूनियां पर सियासी हमला करते रहते हैं।

गौरतलब है कि पिछले दिनों गठित कोर कमेटी की बैठक और 9 फरवरी को आयोजित विधायक दल की बैठक में भी वसुंधरा राजे ने अपनी बहू के बीमार होने की बात कहकर किनारा कर लिया था।

इधर, यूनुस खान भाजपा के कार्यकर्ताओं और संगठन के नेताओं को राजे खेमे से जुड़ने, जन्मदिन पर भीड़ जुटाने एवं 11 मार्च को प्रस्तावित उनकी देवदर्शन यात्रा में वाहनों के साथ शामिल होने के लिए दबाव बना रहे है, सम्पर्क कर रहे हैं। चर्चा है, वैसे तो वसुंधरा राजे के इस खेमे में भाजपा के कई लोग हैं, लेकिन रणनीतिक और खुलेआम तैयारी का पूरा जिम्मा यूनुस खान के हाथ में ही है।

यह भी पढ़ें :  सुबह-शाम भयंकर जाम से जूझता जयपुर का यह रोड

भाजपा के कई कार्यकर्ता कह चुके हैं कि यूनुस खान की तरफ से उनके पास फोन आता है, जिसमें वसुंधरा राजे के जन्मदिन के अवसर पर भीड़ एकत्रित करने और उसके बाद राज्य की संभावित देवदर्शन यात्रा के लिए वाहनों के साथ एकत्रित होने का दबाव बनाया जा रहा है।

हालांकि दिल्ली भाजपा के जानकार सूत्र कहते हैं कि पिछले दिनों अमित शाह की वसुंधरा राजे के साथ जो मुलाकात हुई थी, उसमें कहीं पर भी अमित शाह को वसुंधरा राजे के द्वारा किसी धार्मिक यात्रा के बारे में नहीं कहा गया था।

सूत्र कहते हैं कि उस मुलाकात के वक्त प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की शिकायत की गई थी। साथ ही उनके बेटे सांसद दुष्यंत सिंह को मोदी कैबिनेट में शामिल करने के लिए वकालत की गई थी।

राजस्थान में 8 मार्च को वसुंधरा राजे के जन्मदिन के लिए पार्टी के कई वरिष्ठ नेता और वसुंधरा राजे के कहने से माने जाने वाले कार्यकर्ता उनके जन्मदिन को भव्य मनाने और यात्रा को विराट स्वरूप देने के लिए दिन-रात जुटे हुए हैं।