गहलोत के जंगलराज का जीता-जागता प्रमाण: राठौड़

जयपुर। राजस्थान में अपराध के बढ़ते आंकड़ों के बावजूद राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा कोई कठोर कदम नहीं उठाए जाने के बाद विपक्ष की तरफ से अशोक गहलोत सरकार के राज को जंगलराज की उपाधि दी गई है।

राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने ट्वीट करते हुए कहा कि बाड़मेर में 15 साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद नृशंस हत्या, जोधपुर और बारां में बच्ची व महिला के साथ अत्याचार, आमेर में बच्चे का अपहरण कर हत्या जैसी आत्मा को झकझोरने व हैवानियत भरी घटनाएं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जंगलराज का जीता-जागता प्रमाण है।

राठौड़ ने कहा कि राज्य में कांग्रेस सरकार दो वर्ष का कार्यकाल पूरा कर चुकी है लेकिन इस दौरान सबसे ज्यादा अत्याचार की शिकार मासूम नाबालिग बच्चियों को होना पड़ा है। राज्य में निरंतर एक के बाद अपराध के मामले सामने आ रहे हैं लेकिन बेकाबू अपराधों पर मुखिया जी का कोई नियंत्रण नहीं दिख रहा है।

राठौड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री व उनके सहयोगी महिलाओं और मासूम बच्चियों को सुरक्षा देने के कितने भी दावे कर लें लेकिन वास्तविकता यह है कि इनके साथ बलात्कार व अन्य आपराधिक घटनाएं नहीं रूक रही है। मासूम बच्चियां और महिलाएं कांग्रेस सरकार से चीख-चीख कर बस यही पूछ रही है कि कब होगा न्याय ?

यह भी पढ़ें :  तम्बाकू का अवैध धंधा भारत के लिए हानिकारक