पायलट बोले:जिन्होंने सड़क पर लाठियां खाईं, उनको हक मिलना चाहिए

जयपुर। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा है कि वसुंधरा राजे की वर्ष 2013 से 2018 वाली सरकार के खिलाफ कांग्रेस के जिन कार्यकर्ताओं ने लाठियां खाई, संघर्ष किया और सत्ता प्राप्त करने के लिए मेहनत की थी, उनको उनका हक मिलना ही चाहिए।

सचिन पायलट ने अपने आवास पर पतंगबाजी करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि कांग्रेस की सरकार लगातार 2023 तक चलेगी और जिस तरह से देश के विभिन्न राज्यों में कांग्रेस को मजबूत करने का काम चल रहा है, 2024 में सत्ता प्राप्त करने के लिए कांग्रेस को सभी राज्यों में मजबूत करना होगा।

कांग्रेस के संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल के एक दिन पहले जयपुर आने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पायलट और गोविंद सिंह डोटासरा से मुलाकात करने के सवाल पर पायलट ने कहा कि संसद का सत्र शुरू होने वाला है, राजस्थान को जिस तरह से केंद्र सरकार के द्वारा आर्थिक मदद नहीं दी जा रही है, उसको सदन के भीतर उठाने के लिए चर्चा करने के लिए जयपुर आए थे।

इसके साथ ही सचिन पायलट ने राजस्थान की भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बीच चल रही किसान को लेकर कहा कि कुछ लोग होते हैं जो संघर्ष करते हैं, सत्ता प्राप्त करने के लिए मेहनत करते हैं, संगठन को मजबूत करते हैं और कुछ लोग ऐसे होते हैं जो केवल नंबर बढ़ाने का काम करते हैं।

पायलट ने इसके साथ ही कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा जो तीन कृषि कानून बनाए गए उनके ऊपर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा जो आदेश दिया गया है, उसको लेकर किसान संगठन संतुष्ट नहीं हैं और इससे साफ होता है कि केंद्र सरकार की नीति साफ नहीं है, देश की जनता किसानों के साथ है, सुप्रीम कोर्ट को उसी के अनुसार फैसला लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश की बेरोजगारी दर बढ़कर 28.2 प्रतिशत, गहलोत सरकार वीक और नौजवानों का पेपर लीक: डाॅ. पूनियां

1 दिन पहले ही उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा के द्वारा कहा गया था कि मैदान में सचिन पायलट यह किरोड़ी लाल मीणा किसी को भी उतारने से कोई फर्क नहीं पड़ता है, जनता जिस को वोट देती है वही असली राजा होता है। इस पर सचिन पायलट ने कहा कि किसके उतरने से जनता में प्रभाव पड़ता है और किस के मैदान में उतरने से प्रभाव नहीं पड़ता है, इस बात का फैसला खुद जनता करती है, किसी के कहने से कुछ नहीं होता है।