15 C
Jaipur
सोमवार, जनवरी 18, 2021

सचिन पायलट रविवार से टोंक दौरे पर, गहलोत गुट परेशान

- Advertisement -
- Advertisement -

जयपुर। राजस्थान की राजनीति में एक बार फिर से हलचल शुरू हो गई है। एक तरफ जहां भारतीय जनता पार्टी में वसुंधरा राजे के बगावती तेवर सामने आने से हड़कंप मचा हुआ है, तो दूसरी तरफ कांग्रेस में भी प्रदेश कार्यकारिणी की 39 जनों की पहली लिस्ट सामने आने के बाद कई तरह की कयासबाजी शुरू हो चुकी है।

इस बीच प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं विधायक सचिन पायलट 10 एवं 11 जनवरी को टोंक विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायतों के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। पायलट के दौरे से अशोक गहलोत खेमा थोड़ा असहज महसूस कर रहा है, क्योंकि पायलट जनता के माध्यम से अपनी ताकत दिखाने का प्रयास करेंगे।

- Advertisement -सचिन पायलट रविवार से टोंक दौरे पर, गहलोत गुट परेशान 3

पहले दिन पायलट रविवार को प्रातः 8.30 बजे जयपुर से सड़क मार्ग द्वारा प्रस्थान कर प्रातः 10.30 बजे टोंक की ग्राम पंचायत चन्दलाई, 11 बजे लवादर, 11.30 बजे घांस, दोपहर 12 बजे हरचन्देडा, 1.30 बजे बमोर, 2 बजे सोनवा, 2.30 बजे अरनियामाल, अपरांह 3 बजे काबरा, 3.30 बजे ताखोली, सायं 4 बजे सांखना, 4.30 बजे छान, 5 बजे दाखिया एवं 5.30 बजे ग्राम पंचायत लाम्बा पहुंचेंगे, जहां किसान बचाओ-देश बचाओ अभियान के तहत जनसम्पर्क करेंगे।

इसके अगले दिन सचिन पायलट 11 जनवरी को प्रातः 11 बजे ग्राम पंचायत सोरण, 11.30 बजे देवपुरा, दोपहर 12 बजे अरनियाकेदार, 1 बजे मण्डावर, 1.30 बजे देवलीभांची, 2 बजे हथोना, 2.30 बजे पराना तथा अपरांह 3 बजे ग्राम पंचायत बरोनी पहुंचेंगे, जहां जहां किसान बचाओ-देश बचाओ अभियान के तहत जनसम्पर्क करेंगे।

माना जा रहा है कि पायलट का यह दौरा उनकी जनता में पैठ, समर्थन, सियासी ताकत और अपने विधानसभा क्षेत्र की जनता का मूड जानने में मददगार साबित होगा। साथ ही लोगों की समस्याओं को नजदीक से देख/सुन पाएंगे।

इधर, भाजपा में अब बगावत खुलकर सामने आ चुकी है। बीते करीब सवा साल से पार्टी अध्यक्ष डॉ सतीश पूनियां के द्वारा जिस तरह संगठन को मजबूती देने के साथ ही बरसों से सत्ता व संगठन की पर्याप्त बनीं वसुंधरा राजे के खेमे को लगभग दरकिनार किया गया है, उससे भी राजे खासी नाराज बताईं जा रही हैं।

बता दें कि वसुंधरा राजे के इशारे पर “टीम वसुंधरा राजे” नाम से नया संगठन बनाकर उसकी कार्यकारिणी का गठन तक कर लिया गया है। सभी 28 जिलों के अध्यक्षों के अलावा कार्यकरिणी भी बन चुकी हैं। जिसका ध्यान पड़ने से भाजपा का प्रदेश नेतृत्व व राष्ट्रीय नेतृत्व भी परेशान है।

दोनों ही दलों में इस तरह से खेमेबाजी होने के कारण राजस्थान की राजनीति एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय बन गई है। आमतौर पर राजस्थान की राजनीति को शांत और 5 साल तक के लिए चुनाव के वक्त ही राष्ट्रीय लेवल पर याद किया जाता है, लेकिन केवल 2 साल के भीतर ही राजस्थान की राजनीति केंद्रीय मीडिया में कई बार चर्चा का विषय बन चुकी है।

- Advertisement -
सचिन पायलट रविवार से टोंक दौरे पर, गहलोत गुट परेशान 4
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

राठौड़ ने पत्र लिखकर ऊर्जा मंत्री से बिजली के जानलेवा सिस्टम को सुधारने के लिए कहा

जयपुर। पिछले दिनों झूलती हाई टेंशन लाइन से 6 लोगों की मौतों पर राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने राज्य के ऊर्जा...
- Advertisement -

राठौड़ ने पत्र लिखकर ऊर्जा मंत्री से बिजली के जानलेवा सिस्टम को सुधारने के लिए कहा

जयपुर। पिछले दिनों झूलती हाई टेंशन लाइन से 6 लोगों की मौतों पर राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने राज्य के ऊर्जा...

राजस्थान में रात्रिकालीन कर्फ्यू खत्म, मुख्यमंत्री की उच्च स्तरीय बैठक में लिया फैसला

जयपुर। कोरोना वायरस के कारण बीते साल मार्च के महीने से चल रहे राजस्थान में कर्फ्यू को लेकर राज्य सरकार पूरी तरह से रियायत...

जाट-राजपूत एक हुए तो उबला बीकानेर, महिपाल सिंह मकराना ने भरी हुंकार

बीकानेर। बीकाजी की नगरी, बीकानेर में रविवार को उबाल मारती हिंदुओं की युवा सेना ने पुलिस की हालत पतली कर दी। करणी सेना के...

Related news

जाट-राजपूत एक हुए तो उबला बीकानेर, महिपाल सिंह मकराना ने भरी हुंकार

बीकानेर। बीकाजी की नगरी, बीकानेर में रविवार को उबाल मारती हिंदुओं की युवा सेना ने पुलिस की हालत पतली कर दी। करणी सेना के...

हनुमान बेनीवाल के से डर प्रो. बीएल जाटावत का इस्तीफा, सरकार ने स्वीकारा

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल के डर से राजस्थान अधीनस्थ कर्मचारी चयन बोर्ड के चेयरमैन प्रोफेसर बीएल...

वसुंधरा राजे का अलग कोई संगठन नहीं हैं: किरोड़ीलाल मीणा

- भाजपा अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया के साथ राज्यसभा सांसद डॉ किरोडी लाल मीणा की मीटिंग से गरमाई राजनीति। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के...

अरबों रुपयों के ग्रीनफील्ड कार्गो एयरपोर्ट प्रोजेक्ट का बेड़ा गर्ग करना चाहते हैं अशोक गहलोत

जयपुर। केंद्र सरकार के नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर पर व्यापार सुगम बनाने के लिए अलवर जिले के भिवाड़ी में एक ग्रीन फील्ड...
- Advertisement -