175 दिन बाद गोविंद डोटासरा का कुनबा सामने आया

-पीसीसी कार्यकारिणी का पोस्टमार्टम, किसको क्या मिला?

जयपुर। आखिरकार छह माह, यानी 175 दिन बाद राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की कार्यकारिणी घोषित कर दी गई है। फिलहाल छोटी कार्यकारिणी ही बनाई गई है, जिसमें 7 उपाध्यक्ष 8 महासचिव और 24 सचिव बनाए गए हैं।

11 वर्तमान विधायक

11 मौजूदा विधायक गोविंद मेघवाल, जितेंद्र सिंह गुर्जर, महेन्दजीत मालवीय, रामलाल जाट, जीआर खटाना, हाकिम अली, लाखन मीणा, प्रशांत बैरवा, राकेश पारिक, रीटा चौधरी और वेद सोलंकी को लिया गया है पीसीसी में, यानि एक व्यक्ति एक पद के सिद्धान्त को बिल्कुल नजरअंदाज किया गया है।

पूर्व विधायक भी

5 पूर्व विधायक नसीम अख्तर, महेंद्र गुर्जर, मांगीलाल गरासीया, हरिमोहन शर्मा और राजेन्द्र चौधरी को भी शामिल किया गया है।

6 विधायक का चुनाव हारने वाले भी

नियुक्ति पाने वाले नेताओं में नसीम अख्तर इंसाफ, पुष्पेन्द भारद्वाज, मांगीलाल गरासीया, शोभा सोलंकी, प्रशांत शर्मा और राखी गौतम को भी इसमें शामिल किया गया है, जो चुनाव हार गए थे। तीन मुस्लिम चेहरों को भी लिया गया है। बीकानेर से गोविंद चौहान, राजू मूंड, गजेन्द्र सांखला और जिया उर रहमान को लिया गया है। बीकानेर का कार्यकारिणी में दबदबा रहा है।

कार्यकारिणी में सीएम गहलोत-डोटासरा का बिल्कुल पलड़ा भारी रहा है। 39 में से करीब 24 नेता सीएम गहलोत-गोविंद डोटासरा और यूथ कांग्रेस कोटे से हैं। वहीं सचिन पायलट खेमे के 10 नेताओं को मौका मिला है। सूची में 5 पदाधिकारी दिल्ली सिस्टम से सीधे बने हैं। बसपा से कांगेस में आए विधायक लाखन मीणा को भी पीसीसी में लिया गया है।

हालांकि जो विधायक कार्यकारिणी में आए हैं, वे बिल्कुल भी पदाधिकारी बनने के इच्छुक नहीं थे, क्योंकि उन्हें सत्ता में भागीदारी की ज्यादा तलब है। कार्यकारिणी में सिर्फ 5 महिलाओं रीटा चौधरी, नसीम अख्तर, प्रतिष्ठा यादव, रखी गौतम और शोभा सोलंकी को लिया गया है।

यह भी पढ़ें :  रिश्वतखोर SDM का विवाह कल: घूसखोर पिंकी मीणा की शादी के कार्ड में संदेश "इतना ही लो थाली में, व्यर्थ ना जाये नाली में"

एक भी मंत्री को पीसीसी में अभी नहीं लिया गया है। यूथ कांग्रेस कोटे से तीन नेताओं को पीसीसी सचिव बनाया गया है। आधा दर्जन नेता दिल्ली के सिस्टम से भी कार्यकारिणी में शामिल किए गए हैं। मई बाद दूसरी कार्यकारिणी आने की संभावना है।

सचिन पायलट गुट-
राजेन्द चौधरी,खटाना,वेद सोलंकी,राकेश पारिक,देशराज मीणा, महेन्द खेड़ी,महेन्द गुर्जर,पशांत शर्मा,राखी गौतम और शोभा सोलंकी, यानी 25 फीसदी पायलट गुट से 1 उपाध्यक्ष, तीन महासचिव और छह सचिव बने हैं

दिल्ली सिस्टम–

रवि पटेल,विशाल जांगिड़, सचिन सरवटे और दो अन्य। संगठन महासचिव अभी किसी को नहीं बनाया गया। कई ज़िलों से प्रदेश कार्यकारिणी में एक भी सदस्य नहीं है।

जातिगत समीकरण-

जाट- 6, दलित- 5, ब्राह्मण- 5, राजपूत- 1, गुर्जर- 4, एसटी- 5, मुस्लिम- 3, पटेल- सीरवी- 3, कुम्हार- 2, यादव- 3 बने पदाधिकारी