हनुमान बेनीवाल के अलावा कोई इतना बड़ा नेता नहीं, जो किसान आंदोलन में डटा हुआ है

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल लगातार 5 दिन से अपनी पार्टी के तीनों विधायकों और पार्टी के तमाम पदाधिकारियों समेत हजारों कार्यकर्ताओं के साथ शाहजहांपुर में धरने पर बैठे हुए हैं।

हनुमान बेनीवाल ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि सरकार जब तक किसानों की मांगों को नहीं मानेगी, तब तक वह यहां से हटने वाले नहीं हैं। आपको बता दें कि बेनीवाल ने इससे पहले एनडीए से गठबंधन खत्म कर लिया और भाजपा से अलग रास्ता अख्तियार कर लिया है।

करीब 10 दिन पहले ही हनुमान बेनीवाल संसद की 3 समितियों उद्योग समिति पेट्रोलियम समिति और याचिका समिति से भी इस्तीफा दे चुके हैं। उन्होंने कहा था कि जब तक किसानों की मांगों पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार गंभीर नहीं होगी, तब तक वह केंद्र की सरकार में शामिल नहीं रहेंगे।

सांसद हनुमान बेनीवाल ने मई 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के साथ गठबंधन किया था। उस गठबंधन के तहत राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों में से नागौर की सीट हनुमान बेनीवाल के लिए छोड़ी गई थी, उसके अलावा पूरे राजस्थान में उन्होंने भाजपा के उम्मीदवारों के लिए प्रचार किया था।

तब से लेकर अब तक हनुमान बेनीवाल सांसद के तौर पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के साथ एनडीए में शामिल हैं और केंद्र सरकार की धारा 370 हटाने की नीति, तीन तलाक कानून बनाने की नीति, नागरिकता संशोधन कानून पारित करने की नीतियों समेत तमाम नीतियों में साथ रहे हैं, लेकिन किसानों के मामले में बेनीवाल कोई समझौता नहीं करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें :  बेनीवाल ने बजाया और रूपाराम ने तेजा गाया, विधानसभा में छाए तेजा भक्त

आज जब खबर लिखी जा रही है, तब तक केंद्र सरकार के कृषि मंत्री और रेल मंत्री के साथ किसान संगठनों की वार्ता चल रही है। संभावना जताई जा रही है कि सातवें दौर की वार्ता के साथ ही किसानों की मांगों को मान लिया जाएगा और पंजाब के सिंघु बॉर्डर, टीकरी बॉर्डर, जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर जारी 35वें दिन का आंदोलन खत्म हो जाएगा।

आपको बता दें कि पूरे देश भर में चाय सांसद के तौर पर लीजिए या फिर किसी क्षेत्रीय पार्टी के मुखिया के तौर पर हनुमान बेनीवाल ही एकमात्र ऐसे नेता हैं, जो किसानों के लिए लगातार 5 दिन से सड़क पर बैठी हुए हैं।

सांसद हनुमान बेनीवाल के साथ ही उनकी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और विधायक पुखराज घर के अलावा विधायक नारायण बेनीवाल और विधायक इंदिरा बावरी के साथ ही पार्टी के तमाम पदाधिकारी और हजारों कार्यकर्ता उनके साथ हैं।