बेनीवाल बोले: RPSC व राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष को हटाया जाए

-राज्य सरकार रिक्त पद भरने व भर्तियों को पारदर्शी व समयबद्ध रूप से पूर्ण करने को लेकर नही है गंभीर – हनुमान बेनीवाल
Jaipur.

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने बयान जारी कर कहा कि राजस्थान सरकार सरकारी महकमों में रिक्त पड़े पदों को भरने व भर्तियों को पारदर्शी व समयबद्ध रूप से पूर्ण करने को लेकर गंभीर नही है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा की कर्मचारी चयन बोर्ड व राजस्थान लोक सेवा आयोग जैसी संस्थानों का राजनैतिक लोगों से प्रभावित होना भी इसका बड़ा कारण है। सांसद ने कहा पेपर लीक होने व भर्तियों का समय पर नहीं होना बेरोजगारों युवाओं के हितों के साथ कुठाराघात है।

और चाहे पूर्वर्ती भाजपा की वसुधंरा राजे सरकार की बात करें या वर्तमान सरकार की, कोई भी सरकार पेपर आउट करने वाले गिरोह के सरगनाओं को पकड़ने में नाकाम नजर आई।

उन्होंने कहा सरकार को चुनाव से बेरोजगारों के साथ किये वादे पर खरा उतरने की जरूरत है, क्योंकि अबतक इस मामले भी सरकार विफल नजर आई। बेनीवाल ने राजस्थान लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष व राजस्थान कर्मचारी बोर्ड के अध्यक्ष को हटाने की भी मांग की।

पेपर आउट होने के सभी मामलों की जांच सीबीआई को दी जाए – सांसद बेनीवाल ने कहा पेपर आउट होने से सीधे युवाओं के भविष्य पर असर पड़ता है। राजस्थान में हाल ही में कनिष्ठ अभियंता सहित जो भी पेपर आउट हुए, उसकी जांच सीबीआई से करवाने की जरूरत है, क्योंकि राज्य की एजेंसियां आज तक ऐसे मामलों में आज तक गिरोह के सरगनाओं तक पहुंचने में नाकाम नजर आई।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान में कोरोना वायरस की यह है वर्तमान स्थिति, अब तक 36 पॉजिटिव हैं

उल्लेखनीय है कि 6 दिसंबर को आयोजित हुई कनिष्ठ अभियंता परीक्षा को राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के द्वारा एक दिन पहले ही रद्द कर दिया गया है। इसी तरह से जनवरी के महीने में प्रस्तावित पटवारी भर्ती परीक्षा को भी स्थगित किया जा चुका है।