गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ीसिंह बैंसला आईसीयू में, डेढ़ माह पहले आये थे कोरोना की चपेट में

जयपुर। गुर्जर आरक्षण आंदोलन के मुखिया कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला को सवाई मानसिंह चिकित्सालय के आईसीयू वार्ड में भर्ती करवाया गया है। उनको छाती के दर्द और सांस लेने में तकलीफ होने के बाद हिंडौन से जयपुर भर्ती करवाया गया है।

कर्नल बैंसला के बेटे विजय सिंह बैंसला ने बताया कि बुधवार को कर्नल बैंसला के छाती में तकलीफ और सांस लेने में दिक्कत होने के बाद हिंडौन से जयपुर लाकर सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। यहां पर एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य सुधीर भंडारी की देखरेख में उपचार चल रहा है।

उल्लेखनीय है कि कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला तत्कालीन वसुंधरा राजे सरकार के समय 2007 और 2008 में गुर्जरों को 5% आरक्षण के लिए बड़े आंदोलन कर चुके हैं, तब पुलिस की गोलियों से 72 गुर्जर युवकों और लोगों की मौत हो गई थी।

इसके बाद कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला पिछले 15 साल के दौरान 7 बार गुर्जरों को आरक्षण के लिए आंदोलन कर चुके हैं, किंतु साल 2009 में उन्होंने भाजपा के टिकट पर टोंक सवाई माधोपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ा था, जिसमें वह हार गए थे।

आज से डेढ़ महीने पहले भी कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में गुर्जरों ने 5% आरक्षण के मामले को नवीं अनुसूची में डालने के लिए आंदोलन किया था। उस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कर्नल बैंसला को बुलाकर बातचीत की थी। कर्नल बैंसला और गहलोत की मुलाकात के दूसरे दिन ही वह कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए गए थे।

कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला को वर्ष 2007 से लेकर अब तक के गुर्जरों का सर्वमान्य नेता माना जाता है। आरक्षण के आंदोलन को लेकर उनके नेतृत्व में गुर्जर समाज एक आवाज पर रेल की पटरियों पर खड़ा हो जाता है।

यह भी पढ़ें :  इतिहास की सबसे अकर्मण्य गहलोत सरकार है: डॉ. पूनियां