अशोक गहलोत का मंत्रीमंड़ल जैसे जिम्बाब्वे की सी ग्रेड की टीम है

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा एक दिन पहले ही सिरोही के शिवगंज में कांग्रेस कार्यालय के उद्घाटन के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भाजपा और अप्रत्यक्ष रूप से सचिन पायलट के ऊपर उनकी सरकार गिराने के आरोप लगाए गए थे।

इसके साथ ही अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार पर भी कई गंभीर आरोप लगाए थे। मुख्यमंत्री के इन आरोपों का जवाब देते हुए रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनियां के द्वारा अशोक गहलोत पर पलटवार किया गया है।

उन्होंने कहा है कि अशोक गहलोत की यह पुरानी आदत है कि अपने असफलताओं को छुपाने के लिए विपक्ष पर आरोप लगाते हैं, लेकिन इस कार्यकाल में पहली बार देखा गया है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुरी तरह से बौखला गए हैं और उटपटांग बयानबाजी कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार की तमाम असफलताओं के चलते राज्य की सरकार को भाजपा ने तो गिराने की पहले कोशिश कर रही थी, ना आगे करेगी, बल्कि यह सरकार अपने खुद के ही कर्मों की वजह से गिर जाएगी।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जैसे ही कोरोना की वैक्सीन बाजार में आएगी, उसके बाद भारतीय जनता पार्टी प्रदेश सरकार की असफलताओं के खिलाफ सड़क पर बड़े आंदोलन करने की तैयारी कर रही है।

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों और उसके बाद किसानों के आंदोलन के प्रश्न पर बात करते हुए सतीश पूनियां ने कहा कि किसानों और केंद्र सरकार के साथ लगातार बातचीत हो रही है और यदि कृषि कानूनों में किसी तरह के संशोधन की आवश्यकता होगी तो निश्चित रूप से केंद्र सरकार उस पर विचार कर रही है।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान का जुगाड़ मशहूर है, जुगाड़ के लिए जादूगर भी मशहूर हैं, जो 'एलिफेंट ट्रेडिंग' के आविष्कारक हैं: डॉ. सतीश पूनियां

इसके साथ ही हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार के द्वारा राजस्थान के बाजरे को वहां पर नहीं बेचे जाने के सवाल पर भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि राज्य की सरकार ने जब कानून बनाए हैं तो फिर अशोक गहलोत की सरकार राज्य के किसानों का बाजरा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर क्यों नहीं खरीद रही है, ऐसा क्या कारण है कि राज्य के किसानों को हरियाणा में जाकर बाजरा बेचना पड़ रहा है?

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल के द्वारा भाजपा को बार-बार गठबंधन तोड़ने की धमकी देने के बाद भी उन से गठबंधन खत्म नहीं किए जाने के सवाल पर बोलते हुए सतीश पूनिया ने कहा कि गठबंधन राष्ट्रीय स्तर पर हुआ है और केंद्रीय नेतृत्व जो भी फैसला करेगा, उसको राज्य नेतृत्व स्वीकार करेगा। हनुमान बेनीवाल के साथ गठबंधन रखने या फिर उसको तोड़ने का निर्णय राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा गृह मंत्री अमित शाह को करना है।

पूनियां ने कहा कि मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और धर्मेन्द्र प्रधान पर जो तथ्यहीन और झूठे आरोप लगाए हैं वो आठवां आश्चर्य जैसा है। उन्होंने इन आरोपों की निंदा करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार में गांव से लेकर शहरों तक विकास पूरी तरह ठप पड़ा हुआ है, युवाओं को बेरोजगारी भत्ता नहीं मिल रहा है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने राज्य सरकार कोरोना प्रबंधन में पूरी तरह फेल होने का आरोप लगाते हुए कहा कि संक्रमितों एवं मौतों के आंकड़े छिपाए गए हैं। महिला अपराध पर लगाम लगाने में भी सरकार विफल साबित हुई। उन्होंने लव जिहाद पर उत्तर प्रदेश सरकार की तरह राज्य सरकार को भी कानून बनाने की मांग की।

यह भी पढ़ें :  इस क्रम में टूट गया कांग्रेस सेवादल से भरोसा