गहलोत के करीबी कांग्रेस विधायक 10 हज़ार करोड़ रुपये में घोटाले के मुख्य आरोपी

Jaipur. कांग्रेस पार्टी के भरतपुर स्थित नदबई विधानसभा क्षेत्र से विधायक जोगिंदर सिंह अवाना, जो कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेहद करीबी माने जाते हैं, उनके विरुद्ध 2010 में हुए 10 हजार करोड़ रुपए के एक बहुचर्चित घोटाले में मुख्य आरोपी बनाए गए हैं।

एक दिन पहले ही विधायक जोगिंदर सिंह अवाना के खिलाफ नोएडा में मुकदमा दर्ज करवाया गया है। हालांकि, थाने के द्वारा मुकदमा दर्ज नहीं होने के कारण जिला न्यायालय के माध्यम से इस्तगासा देकर मामला दर्ज हुआ है। दादरी थाना पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि 2010 के दौरान जोगेंद्र सिंह अवाना और 57 अन्य लोगों के द्वारा Garvit innovative Private Limited नाम से company बनाकर उसमें 350 लोगों का इन्वेस्ट करवाया गया, जिसमें करीब 10000 करोड़ का घोटाला हुआ था।

आपको बता दें कि दिसंबर 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर विधायक बने जोगिंदर सिंह अवाना ने 2019 में अपने साथी अन्य पांच विधायकों के साथ कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की थी। यह भी कहा जाता है कि बसपा से कांग्रेस में विलय का प्रस्ताव खुद जोगिंदर अवाना ने ही दिया था।

इससे पहले जोगिंदर अवाना का 2 मिनट से ज्यादा वक्त का एक ऑडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने नदबई में जाट समाज का एसडीएम नहीं लगाने की सरकार से बात करते हुए पाया गया था। इसको लेकर भी भरतपुर में उनके खिलाफ खासतौर से जाट समाज ने गहरी नाराजगी व्यक्त की थी। बाद में उन्होंने इस को लेकर माफी भी मांगी थी।

यह भी पढ़ें :  बसपा के 6 विधायकों की योग्यता को लेकर भाजपा ने फिर लगाई हाईकोर्ट में याचिका

इधर, जोगिंदर अवाना का कहना है कि इसी तरह के राजनीतिक मुकदमे में फंसाने के लिए उनके खिलाफ पहले भरतपुर में भी एक एफआईआर दर्ज करवाई गई थी, लेकिन बाद में कोर्ट में वह खारिज हो गई। इस बार फिर से दूसरी जगह मुकदमा दर्ज करवाया गया है, यह राजनीतिक षड्यंत्र है।